स्वाभाविक रूप से आपके टेस्टोस्टेरोन / मेल हॉर्मोन / वृषणि के स्तर को बढ़ाने वाली तीन जड़ी बूटियां

टेस्टोस्टेरोन को आक्रामक व्यवहार के साथ जोड़ा जाता हैं, लेकिन सच तो यह हैं कि, शरीर की स्वस्थ कार्य प्रणाली और उसकी विभिन्न प्रक्रियाओं को सूचारू रूप से चलाने के लिए बात यह हार्मोन बहुत ही आवश्यक हैं । तो चलिए, कुछ बुनियादी बातों पर एक करीब नज़र ड़ालते हैं और टेस्टोस्टेरोन के बारे में कुछ असाधारण तथ्यों की खोज कर, यह समझते हैं कि कैसे 3 सरल जड़ी बूटियां टेस्टोस्टेरोन के स्तर को स्वाभाविक रूप से बढ़ा सकती हैं। पढ़ते रहिये…

टेस्टोस्टेरोन (वीर्यकोष से अंतःस्राव/ आंतरिक रस) क्या है?

सीधे शब्दों में कहें तो टेस्टोस्टेरोन, एक हार्मोन अंतःस्राव हैं जो कि अंडाशय और वीर्यकोष( वृषण) और शरीर की अधिवृक्क ग्रंथियों(गुर्दे के पास रहती हैं) के द्वारा पैदा होता हैं । यह एक आवश्यक हार्मोन हैं जो कि शरीर की विभिन्न प्रक्रियाओं के समुचित कार्य के लिए आवश्यक हैं, विशेष रूप से प्रजनन प्रणाली के लिये । कोलेस्ट्रल यह मूल तत्त्व हैं, जिसमे से इन तीनों हार्मोनो की उत्पति होती हैं ।

आम तौर पर इसे एक "पुरुष" हार्मोन के रूप में संदर्भित किया जाता हैं, टेस्टोस्टेरोन हार्मोन पुरुषों में अंडकोष द्वारा उत्पादित होता हैं और पुरुष यौन विशेषताओं के समुचित विकास के लिए जिम्मेदार होता हैं । इसके अतिरिक्त टेस्टोस्टेरोन मांसपेशीयों को क़ायम रखने के लिए, लाल रक्त कोशिकाओं के पर्याप्त स्तर को बनाये रखने के लिए , अस्थि विकास, यौन कार्य और अच्छे स्वास्थ्य के समग्र भाव को बनाए रखने के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।

इस हार्मोन की कमी का शरीर पर हानिकारक प्रभाव हो सकता हैं, और स्थानापन्न उपचार से इस कमी से निपटने का उपाय, कभी-कभी अपर्याप्त साबित हो सकता हैं।

टेस्टोस्टेरोन के बारे में कुछ असाधारण तथ्य

यहाँ हम नीचे टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के बारे में कुछ आश्चर्यजनक तथ्य बता रहें हैं -
  • टेस्टोस्टेरोन आपके पेट को सिकुड़ने में मदद कर सकता हैं - हाँ, आपने सही पढ़ा! जॉन्स हॉपकिंस विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ता एड्रियन डोब्स ने यह खुलासा किया कि वहाँ टेस्टोस्टेरोन देने के बाद पुरुषों के पेट के मोटापे में कमी देखी गई।
  • महिलाएं जो प्रेम में होती हैं उन में टेस्टोस्टेरोन उच्च स्तर का होता हैं - आश्चर्यचकित करने की बात हैं कि जो महिलाएं अकेली या लंबी अवधि के रिश्ते में हैं, उनकी तुलना में जिन महिलाओ ने हाल में ही रिश्ता( ताल्लुकात) बनाया हैं, उनमें शुरुआती महीनों में टेस्टोस्टेरोन का उच्चतर स्तर का होता हैं।
  • अत्यधिक टेस्टोस्टेरोन से अंडकोष सिकुड़ सकते हैं- जो पुरुष,यौन वर्धक पदार्थ और कृत्रिम टेस्टोस्टेरोन लेते हैं, उन में अंडकोष के सिकुड़ने और स्तनों के बढ़ने के साथ साथ आक्रामकता, बदलते मिजाज और मुँहासे आदि होने की भी जोखिम रहती हैं ।
  • पैसा कमाना टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रभावित करता हैं - ब्रिटिश शोधकर्ताओं के अनुसार, युवा पुरुष औसत से अधिक पैसा कमाते हैं, उन दिनों में वे टेस्टोस्टेरोन के स्तर में वृद्धि का अनुभव करते हैं।
  • मोटापा टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कम कर सकता हैं - विशेषज्ञों का मानना हैं कि मोटापे से ग्रस्त पुरुषों को अधिक पतले पुरुषों की तुलना में कम टेस्टोस्टेरोन के स्तर से ग्रस्त होने की संभावना होती हैं; और इसकी वजह यह हैं कि वसा कोशिकाओं के साथ-साथ सूजन और जलन तत्त्वों की उपस्थिति, जो टेस्टोस्टेरोन के संश्लेषण को दबाते हैं।


तीन जड़ी बूटियां स्वाभाविक रूप से आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाती हैं।

यहाँ हमने तीन सबसे अच्छी प्राकृतिक जड़ी बूटियों को टेस्टोस्टेरोन के स्तर में स्वाभाविक रूप से सुधार लाने के नीचे सूचीबद्ध किया हैं।

हॉर्नी गोट वीड (एपी मीडियम)

यह चीनी जड़ी बूटी दोनों पुरुषों और महिलाओं के टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में कारगर माना जाती रही हैं । इसमें एक संयुक्त कम्पाउंड हैं जो ' ईकारीन ' नाम से जाना जाता हैं, जो टेस्टोस्टेरोन को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार माना जाता हैं ।

एक अध्ययन में यह भी पता चला हैं कि, हॉर्नी गोट वीड टेस्टोस्टेरोन के प्रभावों की नकल कर के, उसे बढ़ावा देता हैं; शायद इसी वजह से यह जड़ी बूटी अक्सर कम कामेच्छा के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में निर्धारित की जाती हैं – जो वास्तव में, टेस्टोस्टेरोन के कम स्तर का प्रभाव ही हैं।

ऐसा माना जाता हैं कि 3 से 9 ग्राम के आसपास इस जड़ी बूटी को चाय के साथ सेवन करने से स्वाभाविक रूप से टेस्टोस्टेरोन में वृद्धि होती हैं।

बल्बाईन नटालेंसिस

दक्षिण अफ्रीका में उद्भव, इस जड़ी बूटी को स्वाभाविक रूप से टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में बहुत असरदार पाया गया है। एक शोध में, इंसानी अध्ययन कर यह भी पाया गया हैं कि इस जड़ी बूटी की 25-50 मिलीग्राम / ग्राम के बीच की खुराक का सेवन करने से, टेस्टोस्टेरोन में वृद्धि का अनुभव होता हैं।

ट्रीबुलस टेर्रेस्ट्रीस

इस जड़ी बूटी को जिसे ‘पंक्चर वाइन’ भी कहा जाता हैं, विशेष रूप से चीन और भारत में, टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ावा देने के लिए इसका सदियों से उपयोग किया जाता हैं । इस जड़ी बूटी का सेवन से यौन इच्छा में वृद्धि, खेलकूद की कार्यक्षमता में सुधार और यौन क्रिया के असफल प्रयासों के प्रबंधन के लिए जाना जाता हैं ।

स्रोत: मेड़ इंड़िया