हड्डी या जोड़ का विस्थापन या उखड़ना

जोड़ के विस्थापन या उखड़ने के विषय में:

  • ऐसा तब होता हैं, जब किसी चोट के कारण कोटर से हड्डियाँ या जोड़ बाहर निकल जाते हैं,
  • खेल-कूद में हड्डी या जोड़ का विस्थापन या उखड़ना एक आम बात हैं ,
  • यह अस्थायी रूप से जोड़ को विकृत या गतिहीन कर देता हैं।
कारण:

  • अचानक गिरने, धक्का, झटका, घूंसा लगने से या किसी भी आघात के कारण होता हैं,
  • संधिशोथ के कारण भी हड्डी या जोड़ का विस्थापन या उखड़ना संभव हैं।
लक्षण:

  • दर्द,
  • नील आना या स्पर्श मात्र से दर्द होना,
  • घायल हिस्सा हिलाने में कठिनाई होना,
  • सूजन,
  • मलिनीकरण।
इलाज:

  • जितनी जल्दी हो सके चिकित्सा सहायता बुलायें,
  • हड्डी या जोड़ के उखड़ जाने से उसे हिलाने या वापस जगह पर जोड़ने की कोशिश नहीं करनी चाहिये,
  • सूजन को नियंत्रित करने के लिये बर्फ रखें,
  • यदि त्वचा कट गई हैं तो, धीरे से साफ करके जीवाणुरहित पट्टी बाँधें,
  • हड्डी या जोड़ के उखड़ जाने पर, उसे अधिक टूटने से बचाने के लिये गलपट्टी से बाँधे,
  • अगर चोट गंभीर है तो, सांस ठीक चल रही हैं क्या यह जाँचें,
  • यदि साँस नहीं चल रही हैं तो, कार्डियो पल्मोनरी रिससिटेशन (सी.पी.आर) या पुनर्जीवन प्रदान क्रिया करें,
  • पैरों को 12 इंच ऊँचा उठायें,
  • रोगी को कंबल से ढँक देवे।
निवारण:
  • खेलते समय सुरक्षात्मक कपड़े पहनें,
  • घर का माहौल सुरक्षित बनायें,
  • बच्चों को सुरक्षित आदतें सिखायें,
  • कुर्सी या अन्य अस्थिर वस्तुओं पर खड़े नहीं रहे,
  • स्नान के समय यदि तेल का उपयोग कर रहे हो तो, सावधानी बरतिये,
  • सीढ़ियाँ चढ़ते-उतरते समय रेलिंग या जंगले का उपयोग करें ।