दांत दर्द

अवलोकन/कारण
  • मुख्य रूप से दांत-दर्द, दाँत की सड़न के कारण होता हैं,
  • मुंह के अंदर बैक्टीरिया चीनी/स्टार्च खाद्य कणों पर पनपते हैं,
  • दांतों की सतह पर चिपचिपा प्लैक जम जाता हैं,
  • प्लैक से बैक्टीरिया एसिड उत्पन्न होता हैं,
  • यह एसिड दांत के इनैमेल और कठोर आवरण को धीरे-धीरे नष्ट कर देता हैं,
  • उससे कैविटी/ छेद उत्पन्न हो जाती हैं,
  • दांतों की सड़न का पहला लक्षण दांत का दर्द होना हैं,
  • ऐसा बहुत ठंडा/बहुत गर्म/कुछ मीठा खाने पर होता हैं,
  • दांत का दर्द चोट/मानसिक आघात के कारण भी हो सकता हैं,
  • दांत का दर्द बच्चों और वयस्कों दोनों में हो सकता हैं।
लक्षण
  • दांत का दर्द जबड़े, गाल, कान तक फैल जाता हैं,
  • चबाते समय दर्द होता हैं,
  • गर्म/ठंडी चीजों से संवेदनशीलता बढ़ जाती हैं,
  • जबड़े में सूजन हो जाती हैं,
  • दांत या मसूड़ों से खून बहता हैं।
उपचार
  • दांतों में फंसे किसी कण को बाहर निकालने के लिये फ्लॉस करें,
  • दंत चिकित्सक से फ्लॉस करना सीखें,
  • दर्द से राहत पाने की दवाई लें,
  • एंटीसेप्टिक युक्त बैंजोकेन लगाएं
  • लौंग का तेल लगाने से भी आराम मिल सकता हैं,
  • मसूड़ों पर सीधे एस्पिरिन मत लगाएं,
  • इसके कारण मसूड़ों के ऊतकों/टिश्यु में जलन हो सकती हैं।
चिकित्सक से परामर्श करें
  • यदि दांत में दर्द बना रहता हैं,
  • दर्द के साथ बुखार भी होता हैं,
  • सांस लेने में कठिनाई होती हैं,
  • कुछ निगलने में कठिनाई होती हैं ।
निवारण
  • प्रत्येक भोजन के बाद दांतों को ब्रश करें,
  • नियमित रूप से फ्लॉस करें,
  • अपने दंत चिकित्सक की साल में दो बार सलाह लें,
  • खेलते समय मुँह के उपकरण अवश्य पहनें,
  • धूम्रपान से बचें, क्योंकि इससे दांतों बिगड़ जाते हैं,
  • कम स्टार्च/चीनी की सामग्री के साथ संतुलित भोजन अवश्य करें।