मधुमेह रोगियों को, व्यायाम की तीव्रता, आवृत्ति, अंतराल, अवधि और समय की योजना बना कर के ही शुरू करनी चाहिए।

व्यायाम कार्यक्रम का उद्देश्य स्वस्थ वजन प्राप्त कर और बनाए रखना होना चाहिए। तदनुसार, व्‍यक्ति को प्रत्येक सप्ताह विविध व्‍यायाम का चयन कर 700-2000 कैलोरी ऊर्जा खर्च करने का लक्ष्‍य रखना चाहिए।
  • एरोबिक व्यायाम, जिनमें बड़ी मांसपेशी समूहों को शामिल किया जाता हैं, दिन में 30 मिनट के लिए ज्‍यादा फायदेमंद होता हैं, जबकि प्रतिरोध व्यायाम (वज़न, लोचदार प्रतिरोध बैंड या शक्ति प्रशिक्षण मशीन) उन लोगों के लिए बेहतर विकल्प हो सकता हैं जिन्‍हें हृदय रोग होने की कम जोखिम हैं।
  • किसी भी शारीरिक गतिविधि शुरू करने से पहले निम्नलिखित मानदंडों पर ध्यान देने की आवश्यकता हैं:
  • व्यायाम की गहनता: शारीरिक गतिविधि कितनी गहन होनी चाहिए? यह आम तौर पर व्यक्ति की सहनशक्ति पर निर्भर करता हैं।
  • व्यायाम की आवृत्ति: एक सप्‍ताह में किसी व्‍यक्ति को कितने दिन व्यायाम करना चाहिए? आमतौर पर, एक सप्‍ताह में 5 दिन अधिमान्‍य हैं,यदि किसी व्‍यक्ति को अपना वजन घटाने की आवश्यकता हैं तो वजन कम करने के लिये वह इससे अधिक बार भी कर सकता हैं। छोटी अवधि तक किया जाने वाला व्यायाम अधिक बार किया जाना चाहिए। छोटी अवधि के लिए किया गया व्यायाम अधिक बार किया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए हर भोजन करने के तुरन्त बाद 10 मिनट तक टहलना चाहिए। चूंकि उद्देश्य रक्त ग्लूकोज के स्‍तर को लक्षित सीमा के भीतर रखना हैं, इसलिए दो अभ्यास सत्रों के बीच की अवधि 3 दिनों से कम होनी चाहिए। इंसुलिन पर निर्भर मधुमेह रोगी को नियमित रूप से व्‍यायाम करना चाहिए क्योंकि जिस दिन वह व्यायाम नहीं करता उसके रक्त शर्करा के स्‍तर में वृद्धि हो जाती हैं।
  • व्यायाम की अवधि: एक व्यक्ति का व्यायाम सत्र कितनी देर तक चलना चाहिए, यह व्यायाम की गहनता से संबंधित होता हैं। उच्च गहनता के व्यायाम छोटी अवधि और कम गहनता के व्यायाम लंबी अवधि तक चलने चाहिए। आमतौर पर किसी भी व्यक्ति को लंबे सत्रों में व्यायाम करने की सलाह नहीं दी जाती क्योंकि इसके कारण रक्त शर्करा का स्तर वांछित सीमा से कम होने की संभावनाएं होती हैं।
  • व्यायाम के समय: व्यायाम कब किया जाना चाहिए? आम तौर पर इस पहलू को, स्वास्थ्य देखभाल टीम और रोगी दोनों को मिलकर तय करना चाहिए, क्योंकि यह व्यक्ति की दैनिक दिनचर्या पर निर्भर करता हैं। मुख्य भोजन (नाश्ता, दोपहर के भोजन और रात के भोजन) के तुरंत बाद व्यायाम नहीं करना चाहिए। जो लोग इंसुलिन पर लेते हैं उन्हें, जब इंसुलिन का असर उच्च होता हैं तब कसरत नहीं करना चाहिए। यह इंसुलिन के प्रकार पर निर्भर करता हैं और इसलिए अच्छा होगा कि इसके बारे में डॉक्टर से बात करके ही करें ।

Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.

Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.