झुर्री और दागों को मिटाने का आसान घरेलू तरीका !

झुर्री या दाग, तीव्रता से वजन बढ़ने से शरीर में होते हैं। यह पेट, स्तन, नितंब, जांघ और बांह के उपरी हिस्सों पर लाल, गुलाबी व बैगनी रंग में गुलाबी घारी की तरह उभरते हैं। जब शरीर का विकास त्वचा के विकास से तेज होता हैं, तब त्वचा के अंदर का इलास्टिक फाइबर फैलने लगता हैं और शरीर पर झुर्री या दाग उभरने लगते हैं। इनका मेडिकल नाम "स्ट्राये डिस्टेंसे" हैं। यह लोगों में दर्द रहित आम समस्या हैं, जिसे चिकित्सीय समस्या नहीं माना जाता ।

झुर्री या दाग के कारण:

मानव शरीर की त्वचा में जो प्रमुख प्रोटिन, संयोजी (जोड़ने वाली) उत्तक को तैय्यार करता हैं, उसे मज्जा(कोलाजेन) कहते हैं। त्वचा में जरूरत से ज्यादा खिचाव इन उत्तकों का नाश कर देता हैं और शरीर में झुर्रीयाँ या दाग उभर आते हैं। शरीर में झुर्रीयाँ या दाग आने के कई अन्य कारण भी हैं।
  • गर्भावस्था के कारण : गर्भावस्था और झुर्रीयाँ दोनो एक दूसरे के पूरक हैं। गर्भावस्था के दौरान तीव्रता से वजन बढ़ने और शरीर में हार्मोनल परिवर्तन आने से, त्वचा में झुर्रीयाँ या दाग उभर जाते हैं। आम तौर पर गर्भावस्था के तीसरे महीने में और कभी-कभी दूसरे महीने के अंत में झुर्रीयाँ या दाग आ जाते हैं।
  • वजन बढ़ना: किशोर अवस्था से यौवन अवस्था में जाने के दौरान लड़के और लड़कियों में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन के कारण झुर्रीयाँ या दाग आ जाते हैं। जो लोग वजन उठाते हैं उनकी बाहों पर झुर्रीयाँ आना एक आम बात हैं। माटापे और वजन बढ़ने के कारण भी यह हो सकता हैं।
  • स्वास्थ अवस्था जैसे कुसिंग्स सिंड्रोम, मारफैन सिंड्रोम, एहलर्स-डेनलोस सिंड्रोम और अधिवृक्क ग्रंथी रोग की वजह से शरीर में निशान और झुर्रीयाँ आ जाती हैं। अनुवांशिकता भी एक महत्वपूर्ण कारण हो सकता हैं। जिन महिलाओं की मां को निशान और झुर्रीयाँ होती हैं, उनको गर्भावस्था के दौरान निशान और झुर्रीयाँ होने की सभावनाएं अधिक होती हैं।
  • मुख से या योजनाबद्ध तरीके से स्टरॉइड लेने से, कॉरटिको स्टरॉइड दवाइयाँ, क्रिम और लोशन का उपयोग करने से भी त्वचा में निशान और झुर्रीयाँ आ जाती हैं।


झुर्री या दाग मिटाने का आसान घरेलू तरीका :

समय के साथ शरीर की झुर्रीयाँ या दाग पहले सफेद फिर रूपहले हो जाते हैं। यहां कुछ घरेलू सुझाव दियें गये हैं, जिनमें सुरक्षित सामग्री का इस्तेमाल किया गया हैं, जिनसे इन निशानों और झुर्रीयों को हल्का किया जा सकता हैं। गौर तलब हैं कि ये घरेलू उपाय तभी कारगार हैं, जब तक इन्हें एक लंबी समयावधि तक इस्तेमाल में लाया जाये।
  • ग्वार पाठा से होने वाले स्वास्थ और सुंदरता को निखारने के लाभ, सर्व विदित हैं। कई सौंदर्य प्रसाधन के निर्माण में भी एलोवेरा का इस्तमाल किया जाता हैं । यदि झुर्री या दाग वाले हिस्से पर रोजाना एलोवेरा का अर्क लगाया जाये तो वे हल्के रह जाते हैं।
  • ग्वार पाठा (एलोवेरा) को काट कर उसका अर्क झुर्री या दाग वाले हिस्से पर लगाएं और कुछ घंटों तक सूखने देने के बाद उसे धो लें।
  • ग्वारपाठा के अर्क में विटामिन ई मिलाएं और उसे शरीर के प्रभावित हिस्से पर लगाए। आप इसे पूरी रात छोड़ सकते हैं या फिर कुछ घंटों तक सूखने देने के बाद धो सकते हैं।
  • निंबु में मौजूद अम्लता झुर्रीयों और दागों को कम करने में काफी सहायक होती हैं।
  • झुर्रीयों और दागों वाले हिस्से पर निंबु का रस लगावें और उसे 10-15 मिनट तक सूखने के बाद धो लें।
  • निंबु के रस को खीरे के रस या फिर आलु के रस के साथ मिलावे और उसे दाग वाले हिस्से पर लगावे। यह जरूर ध्यान रखें की त्वचा रस को पूरी तरह सोख लेवें और सूखने के बाद उसे हल्के गर्म पानी से धो लें।
  • प्राकृतिक तेल, त्वचा की समस्या को हल करने के लिए गुणकारी प्रसाधन हैं। जैतुन के तेल में ऑक्सीकरण रोधी तत्व होते हैं और इसके नियमित इस्तेमाल से झुर्रीयाँ और दाग काफी हल्के व कम हो जाते हैं।
  • झुर्रीयों और दागों वाले हिस्से पर जैतुन का तेल दिन में दो या तीन बार नियमित रूप से हल्के से लगावें और प्रभावित त्वचा पर तेल लगाकर उसे रात भर छोड़ दें।
  • जैतुन के तेल में चीनी और निंबु का रस मिलावें और उस मिश्रण को दाग वाले हिस्से पर लगावे। यह जरूर ध्यान रखें की त्वचा रस को पूरी तरह सोख लेवें और सूखने के बाद उसे हल्के गर्म पानी से धो लें।
  • बादाम के तेल में विटामिन ई होता हैं, जो त्वचा की स्वस्थता के लिए काफी लाभकारी हैं। झुर्री या दाग को दूर करने के लिए बादाम के तेल में किसी अन्य तेल को भी मिला कर लगा सकते हैं।
  • बादाम के तेल में लैवेंडर या कैमोमाइल का तेल मिला कर, झुर्री या दाग वाली जगह पर दिन में दो बार लगाने से काफी लाभ मिलता हैं । चाहे तो इसे लगा कर रात भर छोड़ भी सकते हैं ।
  • रोजाना झुर्री या दाग वाली जगह पर मसाज करने से दाग धीरे-धीरे काफी कम हो जाते हैं।
  • कई अन्य तेल भी है जो एक समयांतराल तक लगाने से दाग और झुर्रीयों को काफी हद तक कम करते हैं।
  • झुर्री या दाग वाली जगह पर अरंडी के तेल से मालिश करें और उसे रात भर छोड़ दें। अधिक प्रभावी असर के लिए तेल से मसाज करने के बाद गर्म पानी की बोतल से सेंकें ।
  • नीम का तेल, त्वचा के दाग और झुर्रीयों को कम करने में काफी गुणकारी हैं।
  • विटामिन ए और प्रोटिन से भरी अंडे की सफेदी झुर्री या दाग को दूर करने में काफी सहायक होती हैं।
  • अंडे के पीले भाग से उसका सफेद भाग अलग कर लें और उसे झुर्री या दाग वाली जगह पर लगाए, इससे काफी लाभ मिलता हैं।
  • अंडे का सफेद भाग, दही और निम्बु को एक साथ मिला लेंवें, यह मिश्रण झुर्री या दाग को दूर करने में काफी प्रभावी होता हैं। प्रोटिन युक्त अंडा, त्वचा के रंग को हल्का करने वाले तत्वों से युक्त दही और निम्बु, इन सबका मिश्रण किसी भी दाग को मिटाने में काफी कारगर साबित होता हैं।
  • कोको मक्खन (ऑक्सीकरण रोधीता और प्रशामकता- ठंड़क देने वाला ) और अन्य सामग्री से मिल कर बनने वाला मिश्रण, एक अत्युत्तम हाथ की बनी क्रीम हैं, जो झुर्री या दाग को दूर करने में काफी सहायक होती हैं।
  • कोको मक्खन को शीया मक्खन के साथ मिलाएं। इससे जो मिश्रण तैय्यार होता हैं वह वसा युक्त अम्ल होता हैं, जो त्वचा को सही करने में काफी सहायक होता हैं। अब इस मिश्रण में विटामिन ई या फिर बादाम का तेल डालें, फिर उसे एक बोतल में कस कर बंद कर देंवें, जिसमें हवा न जा सके। जब भी मन चाहे, इस मिश्रण को बोतल से निकाल कर झुर्री या दाग वाले स्थान पर लगाएं।
  • रूखी त्वचा अस्वस्थ त्वचा का संकेत हैं। कोई भी घरेलू उपाय तब तक काम नहीं करेगा जब तक त्वचा रूखी होगी। अपने शरीर की जरूरत के अनुसार पर्याप्त पानी पियें। व्यक्ति को प्रतिदिन कम से कम आठ गिलास पानी जरूर पीना चाहिए, इससे त्वचा स्वस्थ रहती हैं।
  • अच्छी त्वचा पाने व बनाए रखने के लिए, एक निम्बु और खीरे का रस,पानी के साथ मिला कर बोतल में भर लें । इस मिश्रण को दिन में बार-बार पीते रहना चाहिए।
  • पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व और एक पौष्टिक भोजन व्यक्ति के बेहतर स्वास्थ्य के लिए काफी जरूरी होता हैं। अच्छी त्वचा के लिए अच्छा व पौषिक भोजन भी उन घरेलू उपायों की श्रेणी में आता हैं, जो त्वचा को बेहतर करती हैं। ऐसे भोजन, त्वचा से दाग, झुर्रियों को हटाते ही नहीं, बल्कि त्वचा में निखार भी लाते हैं।
  • पालक, पत्तीदार सब्जियां, नमकीन फल, पपिता, बादाम, जैतुन का तेल, गेहूं आदि का सेवन करना चाहिए। ये सभी खाद्य पदार्थ विटामिन ई और सी से भरे होते हैं जो त्वचा के लिए काफी लाभकारी होते हैं।
  • कोलाजेन को ठीक करने के लिए पटसन का बीज काफी लाभकारी होता हैं। खाने के बाद चम्मच भर पटसन का बीज जरूर खाएं या फिर भोजन या सलाद आदि में इसका इस्तेमाल करें।
  • अच्छी तरह व्यायाम करने से न केवल वजन कम होता हैं बल्कि इससे त्वचा में भी काफी निखार आता हैं। त्वचा को झुर्रियाँ आने से भी बचाने के लिये अपनी दिनचर्या में शारीरिक कसरत को जरूर शामिल करें।
  • टहलना व दौड़ना अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी होता हैं। त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए ताजी हवा काफी गुणकारी हैं।
  • अपनी दिनचर्या में दौड़-भाग वाले खेल और पद यात्रा को शामिल करना चाहिए, इससे केवल त्वचा ही नहीं बल्कि तन व मन दोनों स्वस्थ रहते हैं।

Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.

Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.