खाद्य जन्य बीमारीयाँ

खाद्य जन्य बीमारीयाँ

Average
4.4
Rating : 12345
Rate This : 1 2 3 4 5
अवलोकन
  • दूषित भोजन खाने से होता हैं
  • बैक्टीरिया, वायरल, परजीवी विषों से होता हैं
  • बैक्टीरिया भोजन प्रदूषण का सबसे सामान्य कारण हैं
  • अधिकांश कच्चे भोजन में बैक्टीरिया मौजूद रहते हैं
  • उत्पादन और तैयारी के बीच संदूषण होता हैं
  • टमाटर, अंकुरित, लेट्यूस इत्यादि जल्दी प्रदूषित हो जाते हैं
  • कच्चे मांस, मुर्गी पालन, समुद्री खाना, अंडे आदि में जोखिम अधिक होती हैं
  • जिनकी प्रतिरक्षण प्रणाली कमजोर होती हैं जैसे बच्चे, गर्भवती महिलायें, बुजुर्ग, इनके प्रदूषित का खतरा अधिक होता हैं।
लक्षण
  • आंत्र फ्लू जैसा दिखता हैं
  • कुछ दिन या सप्ताह तक रहता हैं।
सामान्य लक्षण हैं-
    1. मतली
    2. पेट में ऐंठन
    3. उल्टी
    4. दस्त, खून भी साथ में निकल सकता हैं
    5. बुखार
    6. निर्जलीकरण
गंभीर लक्षणों में शामिल हैं-
    1. उथली सांस
    2. तेज नाड़ी
    3. विवर्ण या फीकी त्वचा
    4. ठंड लगाना
    5. छाती में दर्द
  • हेमोलिटिक यूरेमिक सिंड्रोम की गंभीरता बच्चों में ज्यादा होती हैं
  • गंभीर जटिलताओं के कारण मृत्यु भी हो सकती हैं।

उपचार
  • अधिकांश मामले हल्के होते हैं और उनका तरल पदार्थ से इलाज किया जा सकता हैं
  • तरल द्रव्य को मौखिक रूप से लिया जा सकता हैं
  • गंभीर मामलों को अस्पताल में भर्ती करना चाहिए

रोकथाम
  • भोजन तैयार करने से पहले हाथ अच्छी तरह से धोएं
  • खाना पकाने से पहले रसोई को पूरी तरह से साफ करें
  • बैक्टीरिया को मारने के लिए उचित तापमान पर खाना पकायें
  • खाना पकाने के दो घंटे के भीतर भोजन फ्रीज करें
  • शांत हवा परिसंचरण के लिए फ्रिज में पर्याप्त जगह रखें।

Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.