Recent Approaches in Hypertension and Diabetes

उच्च रक्तचाप और मधुमेह क्या है?

खुशी अच्छे स्वास्थ्य और खराब याददाश्त से ज्यादा कुछ नहीं है। - अल्बर्ट श्वित्ज़र

एक सामान्य मानव शरीर में रक्तचाप को नाड़ी की दीवारों पर रक्त द्वारा किये गए दबाव के रूप में परिभाषित किया जाता है। नतीजतन, यदि दबाव डालने की यह स्थिति लगातार उच्च होती है, तो इस स्थिति को उच्च रक्तचाप या हॉयपर टेंशन कहा जाता है। आठवीं संयुक्त राष्ट्रीय समिति (जेएनसी-8) के अनुसार रक्त का दबाव 40/90 मि.मी एचजी के बराबर या अधिक होने पर उच्च रक्तचाप हैं यह माना जायेगा। दूसरी ओर मधुमेह मेलिटस चयापचय संबंधी विकारों का एक समूह है जो विशेष कर रक्त में शर्करा की वृद्धि करता हैं।

उच्च रक्तचाप और मधुमेह के कारण क्या हैं?

उच्च रक्तचाप दो प्रकार के होते हैं:

प्राथमिक (अनिवार्य) उच्च रक्तचाप: अधिकांश वयस्कों में उच्च रक्तचाप को पहचाने का कोई ज्ञात योग्य लक्षण नहीं होता है, ये कई वर्षों में धीरे-धीरे विकसित होते है। इस प्रकार के उच्च रक्तचाप को प्राथमिक या आवश्यक उच्च रक्तचाप कहा जाता है।

द्वितीयक उच्च रक्तचाप: यदि रक्तचाप किसी अंतर्निहित स्थिति के कारण होता हुआ पाया जाता है, तो इसे द्वितीयक उच्च रक्तचाप कहा जाता है। यह अचानक प्रकट होता है और प्राथमिक उच्च रक्तचाप की तुलना में रक्तचाप के उच्च स्तर का कारण बनता है। विभिन्न स्थितियों और दवाओं के कारण माध्यमिक उच्च रक्तचाप हो सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  • गंभीर (क्रॉनिक) किडनी रोग
  • मोटापा
  • अधिवृक्क ग्रंथि को प्रभावित करने वाले रोग या ट्यूमर
  • थायरॉइड विकार; अंतःस्रावी विकार जैसे कुशिंग सिंड्रोम
  • दुर्लभ ट्यूमर जैसे फीयोक्रोमोसाइटोमा
  • कुछ दवाएं, जैसे जन्म नियंत्रण की गोलियाँ, सर्दी के उपचार, डिकॉन्गेस्टेंट
  • कोकीन और एम्फ़ैटेमिन का उपयोग
  • शराब का सेवन
  • ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया।

टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज मेलिटस के कारण

टाइप 1 डायबिटीज मेलिटसटाइप 2 डायबिटीज मेलिटस
कारण और रोगजनन अग्न्याशय में इंसुलिन बनाने वाली कोशिकाओं का विनाश; अग्न्याशय बहुत कम या बिल्कुल भी इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता हैशरीर की इंसुलिन के प्रति प्रतिक्रिया करने की क्षमता में कमी।
इंसुलिन -उत्पादक कोशिका खराब होने लगती है, जो अपर्याप्त इंसुलिन स्राव के रूप में प्रकट होती है जिससे इंसुलिन प्रतिरोध और हाइपरग्लेसेमिया होता है।
लीवर द्वारा अत्यधिक ग्लूकोज उत्पादन।

उच्च रक्तचाप और मधुमेह के संकेत और लक्षण क्या हैं?

उच्च रक्तचाप से पीड़ित अधिकांश लोगों में कोई बीमारी के कोई लक्षण नहीं होते हैं और इसलिए इस बीमारी को "साइलेंट किलर" भी कहा जाता है। गंभीर उच्च रक्तचाप गैर-विशिष्ट लक्षण पैदा कर सकता है जैसे कि सिरदर्द , दृष्टि संबंधी समस्याएं, चक्कर आना, सांस की तकलीफ, तेज धड़कन और माथे में पसीना आना। इन लक्षणों के दिखने के बाद तत्काल उपयुक्त चिकित्सा की करें।

दूसरी ओर टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह के अलग-अलग संकेत और लक्षण हैं:

  • सामान्य से अधिक प्यास लगना
  • हर समय थकान महसूस करना
  • पेशाब में वृद्धि
  • शुष्क महसूस करना- मुंह सूखना और त्वचा में खुजली
  • धीरे-धीरे ठीक होने वाले घाव
  • अंगों में दर्द या सुन्नता
  • त्वचा के गर्म, नम क्षेत्रों जैसे स्तनों के नीचे, यौन अंगों में और आसपास के क्षेत्रों में बार-बार होने वाले फंगल संक्रमण
  • अप्रत्याशित वजन घटना
  • सामान्य से अधिक भूख लगना।

गंभीर मामलों में मतली, उल्टी, पेट दर्द हो सकता है और कभी-कभी ये लक्षण बेहोशी तक भी बढ़ सकते हैं।


आप उच्च रक्तचाप और मधुमेह का निदान कैसे करते हैं?

उच्च रक्तचाप का नैदानिक रूप से आसानी से निदान किया जा सकता है। एक साधारण मैनुअल ब्लड प्रेशर कफ मॉनिटर जिसे स्फिग्मोमैनोमीटर भी कहा जाता है, का उपयोग किया जाता है।

ब्लड प्रेशर के निदान के लिए, बांह के चारों ओर एक फूलने वाला पट्टा (इन्फ्लेटेबल आर्म कफ) बांधा जाता है और अलग-अलग समय पर लगातार दो से तीन संख्या (रीडिंग) दर्ज की जाती हैं। रक्तचाप को एक अंश के रूप में दर्शाया जाता है, जिसमें अंश सिस्टोलिक रक्तचाप के उस मान को बताता है, जब दबाव से हृदय सिकुड़ता है और धड़कनों के बीच जब हृदय आराम करता है, उस समय धमनियों में रक्त के दबाव के भाजक को डायस्टोलिक रक्तचाप कहा जाता हैं।
नोट: रीडिंग किसी मीटर डायल आदि द्वारा चिह्नित संख्या को कहा जाता हैं।

सिस्टोलिक प्रेशर डायस्टोलिक दबाव
सामान्य रक्तचाप <120और <80
प्री हाइपरटेंशन120-139और/या80-89
प्रथम-चरण 140-159और/या90-99
द्वितीय-चरण>=160और/या>=100
पृथक सिस्टोलिक उच्च रक्तचाप >=140और<90

संयुक्त राष्ट्रीय समिति (जेएनसी) 8 ने उच्च रक्तचाप के निदान में निम्नलिखित परिवर्तनों का सुझाव दिया:

रोगी की आयु समूहलक्षित सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर (SBP) (mm Hg)लक्षित डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर (DBP) (mm Hg)
≥ 60 साल <150<90
<60 वर्ष<140<90
>क्रॉनिक किडनी रोग के साथ 18 वर्ष<140<90
मधुमेह के साथ 18 वर्ष<140<90

स्रोत: जेम्स पी.ए., et al; जामा 2013

मधुमेह के निदान के लिए मानदंड

  • फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज>=126 mg/dl
  • खाने के बाद रक्त ग्लूकोज>=200mg/dl प्रारंभिक रक्त संग्रह के बाद, 75 ग्राम निर्जल ग्लूकोज को पानी में घोलकर मौखिक रूप से दिया जाता है। ग्लूकोज अंतर्ग्रहण के दो घंटे बाद फिर से परीक्षण के लिए रक्त निकाला जाता है। (यह एक परीक्षण है जिसे ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट- ओजीटीटी के रूप में जाना जाता है)
  • डायबिटीज मेलिटस के निदान के लिए 6.5% से अधिक ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन HbA1c का स्तर मान्य है। HbA1c पिछले तीन महीनों में रक्त शर्करा नियंत्रण को बतलाता है।
  • अनियमित रक्त ग्लूकोज>200mg/dl इस तरह के व्यक्तियों में अत्यधिक प्यास लगना, अधिक भोजन करना और वजन घटना आदि लक्षण दिखते हैं।

उच्च रक्तचाप और मधुमेह का इलाज कैसे करें?

उच्च रक्तचाप-

जब तक रोगी को गंभीर उच्च रक्तचाप न हो, तब तक रक्तचाप का बार-बार माप लेना चाहिये, साथ ही उनकी जीवन शैली का भी आंकलन करने के बाद ही दवाई की शुरुआत करनी चाहिये।

जेएनसी-8 के दिशानिर्देश, सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप को नियंत्रण करते समय मरीज की उम्र और सहविकृतियां को ध्यान में रख कर ही विशिष्ट उपचार करने पर जोर देते हैं।

  • 60 वर्ष से कम आयु के रोगियों में- 140/90mm Hg से अधिक रक्तचाप के लिए ड्रग थेरेपी पर विचार किया जाना चाहिए
  • और 60 वर्ष से अधिक उम्र के रोगियों के लिए - रक्तचाप 150/90mm Hg होने पर ड्रग थेरेपी के लिए विचार किया जाना चाहिए
  • मधुमेह और क्रॉनिक किडनी के रोगियों- में दवा उपचार 140/90mm Hg के रक्तचाप पर शुरू किया जाना चाहिए
  • दिशानिर्देशों में एसीई इनहिबिटर और एआरबी जैसी दवाओं के उपयोग के लिए नई सिफारिशें भी शामिल हैं। दवाओं के संयोजन या व्यक्तिगत दवा की बढ़ी हुई खुराक का उपयोग रोगी की आवश्यकता के अनुसार किया जा सकता है।

प्रारंभिक दवा वर्ग विकल्प:

  • गैर अश्वेत रोगी - थियाजाइड मूत्रवर्धक, कैल्शियम चैनल अवरोधक और एसीई अवरोधक/एआरबी
  • काले रोगी - थियाजाइड-प्रकार के मूत्रवर्धक या कैल्शियम चैनल अवरोधक।
  • पुरानी गुर्दे की बीमारी वाले रोगी - एसीई अवरोधक या एआरबी।

उच्च रक्तचाप के उपचार के लिए दवा चिकित्सा में एसीई अवरोधक , बीटा-ब्लॉकर्स, कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स शामिल हैं।, और मूत्रवर्धक।

उपचार का लक्ष्य दो आयु समूहों, आयु<55 वर्ष और आयु>55 वर्ष के लिए है।

55 वर्ष से कम उम्र के रोगियों को पहले एसीई (ACE) अवरोधकों को शुरू करें और उसके बाद एसीई अवरोधकों और मूत्रवर्धक को या दूसरा विकल्प हैं एसीई (ACE) अवरोधकों के साथ कैल्शियम चैनल अवरोधकों का संयोजन करके उपचार शुरू करें।

यदि फिर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं होती है तो उपचार के लिए, तीनों को एक साथ संयोजन करें ।

55 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के रोगियों के लिए प्रारंभिक उपचार, मूत्रवर्धक के साथ कैल्शियम चैनल ब्लॉकर का संयोजन करना चाहिए। इसके बाद एसीई इनहिबिटर और कैल्शियम चैनल ब्लॉकर या डाइयुरेटिक का संयोजन या तीनों घटकों को साथ में संयोजित करे, जैसे कि पहले वाले आयु समूह में बताया गया है।

बेटा ब्लॉकर को अंतिम उपाय के रूप में उपयोग किया जाता हैं, औषधी की मात्रा को धीरे-धीरे बढ़ाया जाता हैं।

मधुमेह

मधुमेह का उपचार मुख्य रूप से चीनी और इससे संबंधित सभी घटको को नियंत्रित करने का हैं। मधुमेह से निपटने के लिए जीवनशैली में बदलाव का अत्यधिक महत्व है। उपचार की दवाओं (ड्रग थेरेपी) में बिगुआनाइड्स (जैसे मेटफॉर्मिन), सल्फोनीयूरिया, एकरबोस, थियाजोलिडेनिओनेस और डीपीपी 1वी इनहिबिटर इत्यादि वर्गों से संबंधित दवाओं का उपयोग किया जाता हैं।

ब्रोमोक्रीपटीन को हाल ही में मधुमेह विरोधी दवा के रूप में स्वीकृत किया गया है।

यदि मौखिक हाइपोग्लाइसेमिक एजेंट (OHAs- यह मधुमेह के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाईयों को परिभाषित करने के लिये प्रयोग किया जाता हैं) मधुमेह को पूरी तरह से नियंत्रित करने में विफल होता हैं, तो इंसुलिन शुरू की जाती है। इंसुलिन को बनाने के विभिन्न प्रकार है, कुछ औषधि मिश्रण कम समय तक और कुछ लंबे समय तक क्रियाशील रहते हैं। सबसे आम तरीके में से एक हैं मानव या ह्युमन मिक्सटार्ड।

आप उच्च रक्तचाप और मधुमेह को कैसे रोक सकते हैं?

निम्नलिखित युक्तियाँ इन बीमारियों को एक हद तक नियंत्रित करने में सहायता कर सकती हैं:

  • वजन घटाना - बीएमआई <25 किग्रा/मी2 होना चाहिए
  • कम वसा और संतृप्त वसा आहार
  • कम सोडियम आहार< 6 ग्राम सामान्य नमक प्रति दिन
  • शराब सीमित मात्रा में या कोई सेवन नहीं
  • फलों और सब्जियों का सेवन
  • धूम्रपान बंद कर के हृदय रोग की जोखिम को कम करें; मांसाहारी लोग अपने आहार में मछली को शामिल कर सकते हैं क्योंकि वह ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर होती हैं।
  • पर्याप्त व्यायाम - प्रति दिन कम से कम 30 मिनट तेज चलना चाहिए।

मधुमेह के मामले की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए निम्नलिखित आहार परिवर्तन का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए।

  • प्रोटीन: 1 ग्राम प्रति किलो, आदर्श शरीर के वजन के (लगभग)
  • कुल वसा: <35% ऊर्जा सेवन। सीमा: तला हुआ भोजन पकाने में वसा/तेल, प्रसंस्कृत मांस (बर्गर, सलामी, सॉसेज), उच्च वसा वाले नाश्ते (कुरकुरे, केक, नट्स, चॉकलेट, बिस्कुट, पेस्ट्री)। प्रोत्साहित करें: कम वसा वाले डेयरी उत्पाद (स्किम्ड दूध, कम वसा वाला पनीर, कम वसा वाला दही), बिना चरबी का मांस
  • संतृप्त और ट्रांस-असंतृप्त वसा: <10% कुल का ऊर्जा का सेवन
  • N-6 पॉलीअनसेचुरेटेड वसा: <10% कुल का ऊर्जा का सेवन
  • N-3 पॉलीअनसेचुरेटेड वसा (फैट) यह तो नहीं तय किया जा सकता कि कितनी मात्रा में इस प्रकार के पदार्थों का सेवन करना चाहिये लेकिन सप्ताह में एक या दो बार मछली, विशेष रूप से तैलीय मछली का सेवन कर सकते हैं। याद रहें मछली के तेल का सेवन नहीं करें।
  • सिस-मोनोअनसैचुरेटेड वसा: इस प्रकार के पदार्थों (जैतून का तेल, एवोकैडो) का कुल ऊर्जा के सेवन 10-20% होना चाहिये
  • कुल कार्बोहाइड्रेट: कुल ऊर्जा के सेवन का 40-60% हो।
  • प्रोत्साहित करें: इसके बजाय कृत्रिम (तीव्र) मिठास चीनी (चीनी मुक्त फ़िज़ी पेय, स्क्वैश और सौहार्दपूर्ण)। सीमा: फलों का रस, मिष्टान्न, केक, बिस्कुट
  • सुक्रोज: कुल ऊर्जा के सेवन का 10% तक, बशर्ते इसे स्वस्थ आहार के संदर्भ में खाया जाए (उदाहरण: फाइबर - समृद्ध नाश्ता अनाज, बेक्ड बीन्स)
  • फाइबर: कोई पूर्ण मात्रा अनुशंसित नहीं है। घुलनशील फाइबर का ग्लाइसेमिक और लिपिड चयापचय पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है। अघुलनशील फाइबर का ग्लाइसेमिक चयापचय पर कोई सीधा प्रभाव नहीं पड़ता है, लेकिन तृप्ति और जठरांत्र संबंधी स्वास्थ्य को लाभ होता है
  • विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट: मिश्रित आहार में फलों और सब्जियों (प्रति दिन पांच भाग) के हिसाब से सेवन करना चाहिये। इस पूरक आहार से होने वाले लाभ का कोई प्रमाण नहीं है।
  • शराब: निषिद्ध नहीं है। इसकी ऊर्जा घटक को ध्यान में रखा जाना चाहिए, जैसा कि पाया जाता हैं कि इंसुलिन के साथ इलाज करने वालों में इसका सेवन विलंबित हाइपोग्लाइसीमिया का कारण होता हैं।
  • नमक: <6 ग्राम प्रति दिन (उच्च रक्तचाप को कम करता हैं)

स्वास्थ्य युक्तियाँ

  • यदि परिवार में कोई व्यक्ति मधुमेह और उच्च रक्तचाप से पीड़ित है तो नियमित जांच करवाएं।
  • यदि घाव हो जाए और ठीक नहीं हो रहा है या यदि आपको बार-बार होने वाले सिरदर्द में दवा लेने से आराम नहीं मिलता है, तो डॉक्टर से परामर्श करें।
  • अत्यधिक तेल और वसा से बना भारी भोजन करने से बचें। इसके अलावा, दैनिक खाद्य पदार्थों में चीनी का सेवन कम करें।
  • हल्के योग और हल्के हृदय से जुड़े (कार्डियो) व्यायाम में शामिल हों। इससे शरीर उपरोक्त रोगों से मुक्त हो जाएगा।
Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.