टाइप 1 मधुमेह के विषय में

टाइप 1 मधुमेह को पहले किशोर मधुमेह के रूप में जाना जाता था क्योंकि यह ज्यादातर बीस वर्ष से कम उम्र के बच्चों और युवा वयस्कों में होता है। अब, यह एक आम स्वास्थ्य समस्या बन गई है जो किसी भी उम्र में प्रकट हो सकती है। वयस्कों में अव्यक्त स्व-प्रतिरक्षित (ऑटोइम्यून) मधुमेह (LADA) एक प्रकार की धीमी गति से विकसित होने वाली टाइप 1 मधुमेह है जिसका आमतौर पर तीस वर्ष की आयु के बाद पता चलता है। 2002-2013 के दौरान बच्चों की आबादी में टाइप 1 मधुमेह की व्यापकता 1.48 से बढ़कर 2.32 प्रति 1000 हो गई।

टाइप 1 मधुमेह (T1D) को इंसुलिन पर निर्भर मधुमेह के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि शरीर इंसुलिन का उत्पादन करने में विफल रहता है। कोशिकाओं द्वारा कार्य करने के लिए आवश्यक ग्लूकोज का ऊर्जा में रूपांतरण नहीं हो पाता हैं, इससे रक्त प्रवाह में ग्लूकोज का जमाव होता है, जो बदले में शर्करा के स्तर को बढ़ाता है, जिससे मधुमेह होता है।

रोगजनन

अग्न्याशय एक चपटी, लम्बी ग्रंथि होती है जो पेट और रीढ़ के बीच पेट में गहराई में स्थित होती है। अग्न्याशय का अंतःस्रावी खंड लैंगरहैंस के आइलेट्स नामक कोशिकाओं के समूहों से बना होता है। आइलेट्स में तीन प्रमुख प्रकार की कोशिकायें होती हैं - अल्फा, बीटा और डेल्टा। बीटा कोशिकायें हार्मोन इंसुलिन उत्पादन के लिए जिम्मेदार होती हैं, वे केंद्रीय भाग में होती हैं और वह अल्फा और डेल्टा कोशिकाओं से घिरी रहती हैं।

T1D एक ऑटोइम्यून बीमारी है जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (श्वेत रक्त कोशिकाएं / टी-कोशिकाएं) बीटा कोशिकाओं पर हमला करती हैं और उन्हें नष्ट कर देती हैं, जिसके परिणामस्वरूप इंसुलिन का उत्पादन बहुत कम या बिल्कुल नहीं होता है। कुछ शोध यह बताते हैं कि इस ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया को सक्रिय करने के लिए कभी-कभी इंसुलिन स्वयं जिम्मेदार होता है। T1D कुछ वायरल संक्रमणों से भी शुरू हो सकता है। जब कोई वायरस शरीर पर हमला करता है, तो टी कोशिकाएं एंटीबॉडी का उत्पादन करती हैं जो वायरस द्वारा उत्पादित एंटीजन पर हमला कर के संक्रमण से लड़ती हैं। लेकिन कभी-कभी, वायरस के एंटीजन, बीटा कोशिकाओं के समान ही होते हैं। यह टी कोशिकाओं द्वारा बीटा कोशिकाओं को नष्ट करने और इंसुलिन के उत्पादन में बाधा डालने का कारण बनते है। कुछ वायरस जिनमें ऐसे एंटीजन होते हैं, वे हैं- कॉक्ससेकी वायरस, रोटावायरस, रूबेला वायरस, एंटरोवायरस जो आंतों के मार्ग पर हमला करते हैं और वे जो कण्ठमाला (मम्स) का कारण बनते हैं।

आनुवंशिकता यह निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है कि किस में टाइप 1 मधुमेह विकसित हो सकता है। बच्चों को माता की तुलना में विकार ग्रस्त पिता से रोग विरासत में मिलने की संभावना अधिक होती है। लेकिन यह पाया गया हैं कि ज्यादातर लोग जो इस बीमारी से ग्रस्त होते है हैं, उनका कोई पारिवारिक इतिहास नहीं होता है। वंशाणु (जीन) शरीर के सामान्य कार्यों के लिए प्रोटीन बनाने के निर्देश देते हैं। वंशाणुओं के बीच परस्पर क्रिया एक व्यक्ति को अतिसंवेदनशील बनाती है या उन्हें बीमारी से बचाती है। कुछ लोगों में, आनुवंशिक संकेत-लिपि (कोडिंग) ऐसी है कि वे टाइप 1 मधुमेह विकसित करने में विफल हो जाते हैं। लेकिन टाइप 1 मधुमेह के लिए अनुकूल प्रवृत्ति वाले व्यक्तियों में, वंशाणुओं के प्रकार सफेद रक्त कोशिकाओं में मानव ल्यूकोसाइट एंटीजन (एचएलए) नामक प्रोटीन बनाने के लिए निर्देश देते हैं, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को सक्रिय करता है। एचएलए कॉम्प्लेक्स क्रोमोसोम 6 पर होते हैं। एचएलए वेरिएंट के कुछ संयोजन रोग के विकास में भूमिका निभाते हैं जबकि अन्य सुरक्षात्मक भूमिका निभाते हैं। शोध विटामिन डी की कमी और T1D के बीच की कड़ी की ओर इशारा करता है। माना जाता है कि यदि विटामिन डी गर्भवती महिलाओं और शिशुओं को दिया जाये तो T1D को रोका जा सकता है। विटामिन डी, इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करके प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है। यह प्रतिरक्षा कोशिकाओं में वाहक (रिसेप्टर्स ) को बांधता है और टी कोशिकाओं द्वारा बीटा कोशिकाओं पर किये गये हमले और विनाश को रोकता है। चूंकि यह शोध निर्णायक नहीं है, इसलिए दोनों के बीच एक मजबूत संबंध स्थापित नहीं किया जा सकता है।

ऐसा माना जाता हैं कि शिशु जिन्हें गाय का दूध या शिशु दूध आहार (फारमूला दूध) बहुत ही प्रारंभिक अवस्था में दिया जाता है, वे भी टाइप 1 मधुमेह के प्रति अतिसंवेदनशील हो जाते हैं। गाय के दूध में एक प्रोटीन होता है और यह ग्लाइकोडेलिन नामक प्रोटीन के समान होता है, जो टी सेल उत्पादन को नियंत्रित करता है। बच्चे का शरीर गाय के दूध के विदेशी प्रोटीन पर हमला करता है और इस प्रक्रिया में ग्लाइकोडेलिन पर भी हमला करता है। इसके परिणामस्वरूप टी कोशिकाओं का अधिक उत्पादन होता है, जो अंततः इंसुलिन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार बीटा कोशिकाओं को नष्ट कर देता है।

तनाव को बाहरी उत्तेजनाओं या तनावपूर्ण घटनाओं के लिए शारीरिक या मनोवैज्ञानिक प्रतिक्रिया के रूप में जाना किया जाता है, जो नकारात्मक और सकारात्मक दोनों ही हो सकते हैं। १७वीं शताब्दी की शुरुआत में, मधुमेह की शुरुआत को 'दीर्धकालीन दुख' के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था। किसी के जीवन में तनाव का स्तर पारिवारिक समस्याओं, काम से संबंधित समस्याओं या किसी अन्य मुद्दे के कारण हो सकता है। मधुमेह की शुरुआत से अधिक, मधुमेहियों में तनाव और चयापचय नियंत्रण के बीच कैसे संबंध हैं, इस संदर्भ में अध्ययन साक्ष्य के साथ अधिक निर्णायक रहे हैं। यह अधिक खाने, शारीरिक गतिविधि की कमी, शराब और धूम्रपान जैसे अन्य कारकों के साथ मिलकर आंत की वसा (पेट का घेरा) में वृद्धि करता है, जिसके परिणामस्वरूप मधुमेह का खराब नियंत्रण और मधुमेह से संबंधित जटिलताओं का विकास होता है। यह बदले में, एक नकारात्मक प्रतिक्रिया उत्पन्न करता है और यह दुष्चक्र जारी रहता है। तनाव के लिए मनोवैज्ञानिक प्रतिक्रिया हाइपोथैलेमो-पिट्यूटरी-एड्रेनल अक्ष को सक्रिय करती है और विभिन्न अंतःस्रावी असामान्यताओं की ओर ले जाती है, जो कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) के स्तर को बढ़ाकर और सेक्स स्टेरॉयड के स्तर को कम करके इंसुलिन के कार्य का विरोध करती हैं।

सीमित अध्ययनों ने प्रदूषकों को टाइप 1 मधुमेह से भी जोड़ा है। प्रदूषण धटक तरल और जीवकोषीय प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बदल देते हैं। वायु प्रदूषकों से जैसे ओजोन, सल्फेट्स और सिगरेट के धुएँ से निकलने वाले रसायन बीटा सेल के विनाश की गति में तीव्रता लाते है, जिस से मधुमेह तेजी से बढ़ता है। ये फ्री रेडिकल्स छोड़ते हैं जो सेल को नुकसान पहुंचाते हैं या डायबेटोजेनिक एंटीजन की प्रस्तुति को बढ़ाते हैं जिससे स्व-प्रतिरक्षिण (ऑटोइम्यून) की प्रतिक्रिया शुरू हो जाती है। कुछ अध्ययनों में पाया गया हैं कि अधिक जहरीले निर्वहन वाले क्षेत्रों में मधुमेह के प्रसार अधिक होते है। लेकिन ये अध्ययन उनकी सीमाओं और पूर्वाग्रह की प्रकृति के कारण निर्णायक नहीं हैं।
नोट -फ्री रेडिकल्स: मुक्त कण एक विषम (अयुग्मित) इलेक्ट्रॉनों की संख्या वाले परमाणु या अणु होते हैं। फ्री रेडिकल्स के बनने की प्रक्रिया प्राकृतिक है। जब ऑक्सीजन कुछ विशेष अणुओं के साथ मिलता है तो उनका निर्माण होता है। शरीर की अन्य कोशिकाओं की तुलना में ये कहीं अधिक आक्रामक होते हैं। कई मुक्त कण जीवन के लिए आवश्यक हैं और हमारे शरीर की कोशिकाओं द्वारा हमलावर बैक्टीरिया को मारने के लिए उपयोग किए जाते हैं। लेकिन अपनी इस कोशिश के दौरान ये लगातार शरीर के अन्य स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाते रहते हैं।

टाइप 1 मधुमेह ऐसे लक्षण पैदा करता है जो कमोबेश एक-दूसरे से जुड़े होते हैं। जब इंसुलिन की अनुपस्थिति के कारण, ग्लूकोज ऊर्जा में परिवर्तित नहीं होता है, जिस के कारण कोशिकाओं द्वारा इसका उपयोग नहीं हो पाता है, तो यह रक्त प्रवाह में जमा हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्त शर्करा का उच्च स्तर होता है। शरीर अतिरिक्त शक्कर से छुटकारा पाने का तरीका ढूंढता है। पेशाब की बारंबारता बढ़ाकर मूत्र के माध्यम से बहुत सारा पानी निकल जाता है, जिसके परिणामस्वरूप निर्जलीकरण और अत्यधिक प्यास की समस्या हो जाती है। चीनी के साथ-साथ, मूत्र के माध्यम से कैलोरी भी कम होती है, जिसके परिणामस्वरूप वजन कम होता है और थकावट होती है।

यदि कोशिकाओं को कार्य करने के लिए ग्लूकोज का निम्न स्तर मिलता हैं तो, शरीर वसा कोशिकाओं को तोड़ता है और परिणामस्वरूप केटोन्स नामक रसायनों का निर्माण होता है। लीवर मदद करने के लिए शर्करा छोड़ता है, लेकिन चूंकि इंसुलिन नहीं होता है, इसके परिणामस्वरूप रक्त प्रवाह में शर्करा का जमाव होता है। अम्लीय कीटोन, अतिरिक्त चीनी और निर्जलीकरण के इस संयोजन से कीटोएसिडोसिस नामक एक स्थिति होती है, जिसका इलाज न करना घातक हो सकता है। अगर इसका समय पर इलाज और अच्छी तरह से प्रबंधन नहीं किया गया तो बीतते समय के साथ, यह आंखों ( रेटिनोपैथी ), गुर्दे ( नेफ्रोपैथी ), यकृत और तंत्रिकाओं ( न्यूरोपैथी ) को नुकसान पहुंचाता है।

उपचार और प्रबंधन

टाइप 2 मधुमेह के विपरीत, टाइप 1 मधुमेह को रोका नहीं जा सकता। ऐसा इसलिए है क्योंकि टाइप 1 मधुमेह एक स्वप्रतिरक्षित (ऑटोइम्यून) बीमारी है, टाइप 2 मधुमेह आंशिक रूप से एक जीवन शैली की बीमारी भी है। उपचार में मुख्य रूप से इंसुलिन स्थानापन्न निदान (रिप्लेसमेंट थेरेपी) की जाती है। इंसुलिन इंजेक्शन या पंप के माध्यम से दी जाती है। मौखिक गोलियां काम नहीं करतीं क्योंकि पेट के एसिड इंसुलिन को नष्ट कर देते हैं। विभिन्न प्रकार के इंसुलिन हैं जैसे कि तीव्र-क्रियाशीलता (रैपिड-एक्टिंग), लघु-क्रियाशीलता (शॉर्ट-एक्टिंग), मध्यवर्ती क्रियाशीलता (इंटरमीडिएट-एक्टिंग) और दीर्घकालीन -क्रियाशीलता (लॉन्ग-एक्टिंग)। इंसुलिन का प्रकार और इंजेक्शन की संख्या, रक्त शर्करा के स्तर और मधुमेह प्रबंधन योजना (डायबिटिक मैनेजमेंट प्लान) पर निर्भर करती है।

मधुमेहियों के लिए इंसुलिन के विभिन्न प्रकार पर एक सूचना पुस्तिका (गाइड)

प्रकारशुरुआत

(इंसुलिन के रक्त प्रवाह में पहुंचने से पहले की अवधि)
शिखर< /b>

(समय अवधि जब इंसुलिन सबसे प्रभावी होती है)
अवधि

(इंसुलिन कितने समय तक काम करती है)
तेजी से क्रियाशील होना10 - 30 मिनट30 मिनट - 3 घंटे3 - 5 घंटे
लघु-क्रियाशीलता30 मिनट - 1 घंटा2 - 5 घंटे12 घंटे तक
मध्यवर्ती क्रियाशीलता1.5 - 4 घंटे4 - 12 घंटे24 घंटे तक
लंबे समय तक काम करने वाला0.8 - 4 घंटेन्यूनतम शिखर24 घंटे तक

लोगों को अपने आहार, व्यायाम, स्वास्थ्य और यात्रा के अनुसार इंसुलिन सेवन के स्तर को समायोजित करना चाहिए।

मधुमेही जीवन

शर्करा के स्तर की बार-बार निगरानी हाइपोग्लाइसीमिया को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है (क्यों कि कभी-कभी इंसुलिन का आधिक्य ग्लूकोज की एक बड़ी मात्रा को जला कर रक्त शर्करा को खतरनाक रूप से निम्न स्तर तक कम कर सकता है) या हाइपरग्लेसेमिया (ऐसी स्थिति जहां इंसुलिन की कमी होने से रक्त में शर्करा ज़रूरत से ज़्यादा जमा हो जाती हैं)।

इंसुलिन का सेवन आवश्यकता के अनुसार समायोजित किया जाना चाहिए। मधुमेही लोग चिंता और अवसाद से पीड़ित होते हैं जो रक्त प्रवाह में ग्लूकोज की निस्तार के कारण उनके रक्त शर्करा के स्तर को बदल सकते हैं।

लोग अपनी ऊर्जा तनाव को प्रबंधित करने में खर्च कर देते हैं और खुद की देखभाल करना बंद कर देते हैं। तनाव के स्तर को विश्राम तकनीकों, ध्यान, प्राणायाम, भावनात्मक समर्थन प्राप्त करने और नकारात्मक विचारों को सकारात्मक विचारों से बदलने के द्वारा प्रबंधित किया जा सकता है।

पोषक तत्वों के दैनिक सेवन को संतुलित करना भी मधुमेह के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कैलोरी सेवन की निगरानी के लिए एक स्वस्थ आहार योजना सर्वोपरी है। कार्बोहाइड्रेट जो फाइबर से भरपूर होते हैं और जिनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) कम होता है, उन्हें स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है। निम्न जीआई वाले खाद्य पदार्थ धीमी गति से पचते हैं और धीरे-धीरे रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाते हैं, ना कि रक्त शर्करा के स्तर में अचानक वृद्धि का कारण बनते है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। वसा का उच्च स्तर वजन बढ़ाने में योगदान करता है और इसीलिये पोषक तत्वों के अनुसार ही दैनिक आहार संतुलित होना चाहिए।

मधुमेहीयों की दैनिक दिनचर्या में शारीरिक गतिविधि को शामिल करना बहुत महत्वपूर्ण है। शारीरिक गतिविधि के दौरान मांसपेशियों में खिंचाव होता है और अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है, जिस की आपूर्ति की जाती है रक्त प्रवाह में ग्लूकोज से और मांसपेशियों (ग्लाइकोजन) में संग्रहीत ग्लूकोज से। शारीरिक गतिविधि के दौरान या बाद में शरीर इंसुलिन के स्तर के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाता है, यानी इंसुलिन के केवल छोटे स्तर की ही आवश्यकता होती है। शारीरिक गतिविधि की तीव्रता, व्यायाम से पहले और बाद में रक्त शर्करा का स्तर और इंसुलिन के प्रकार के अनुसार इंजेक्शन की मात्रा कुछ ऐसे कारक हैं, जिन पर T1D वाले व्यक्ति को शारीरिक गतिविधि में संलग्न करने से पहले विचार किया जाना चाहिए।

जीवनशैली में संशोधन में धूम्रपान की समाप्ति भी शामिल है। रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाने के अलावा, धूम्रपान ऊतकों तक पहुंचने वाली ऑक्सीजन की आपूर्ति को काट या कम कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप उनकी मृत्यु हो जाती है। यह कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप के स्तर को बढ़ा सकता है, जिससे रक्त वाहिकाओं में कसाव और क्षति हो सकती है। यह नसों को नुकसान पहुंचाता है और किडनी की बीमारी का कारण बनता है। धूम्रपान न करने वालों की तुलना में मधुमेह वाले धूम्रपान करने वालों में धूम्रपान का प्रभाव कई गुना अधिक होता है।

मधुमेह के साथ जीना एक आनंददायक और आरामदेह स्थिति बन जाती है, जब उपरोक्त कारकों को ध्यान में रखा जाता है।

Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.

Advertisement