कोविड़-19 के बारे में चिंता? तनाव से शुक्राणु और भविष्य की वंश प्रणाली पर चिरस्थायी प्रभाव पड़ता हैं।

तनाव शुक्राणु को बदल सकता हैं और अगली पीढ़ी के मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकता हैं, एक नए अध्ययन से पता चलता है। अध्ययन के निष्कर्ष पत्रिका: नेचर कम्युनिकेशन (प्रकृति संचार)

यह अनुसंधान एक जैविक तंत्र की रूपरेखा बताता है कि कैसे तनाव ग्रस्त एक पिता का अनुभव, गर्भ में भ्रूण के मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकता हैं। बाह्य कोशिकीय पुटिकाओं का शुक्राणुओं की परिपक्वता में एक महत्वपूर्ण योग होता हैं, पैतृक तनाव पुटिका को प्रभावित करता हैं और इसी के माध्यम से तनाव भ्रूण में स्थानांतरित कर सकता हैं। एक्स्ट्रासेल्युलर वेसिकल्स छोटे झिल्ली-परिमित कण होते हैं जो कोशिकाओं के बीच प्रोटीन, लिपिड और न्यूक्लिक एसिड का परिवहन करते हैं। वे प्रजनन पथ में बड़ी मात्रा में उत्पादित होते हैं और शुक्राणु परिपक्वता में एक अभिन्न भूमिका निभाते हैं।

"ऐसे कई कारण हैं जो तनाव को कम करने में विशेष रूप से लाभकारी हैं, खासकर जब हमारे तनाव का स्तर काफी बढ़ा हुआ हो और अगले कुछ महीनों तक ऐसा ही रहेगा," मैरीलैंड स्कूल ऑफ मेडिसिन विश्वविद्यालय में बाल स्वास्थ्य और मस्तिष्क विकास में एपिजेनेटिक अनुसंधान के लिए केंद्र की प्रोफेसर ऑफ फार्माकोलॉजी के प्रोफेसर और निदेशक अनुसंधान सहलेखिका ट्रेसी बेल, पी.एच.डी. ने कहा, "उचित रूप से तनाव का प्रबंधन न केवल मानसिक स्वास्थ्य और अन्य तनाव संबंधी बीमारियों में सुधार कर सकता है, बल्कि यह प्रजनन प्रणाली पर संभावित स्थायी प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता हैं जो भविष्य की पीढ़ियों को प्रभावित कर सकता हैं।"

ट्रेसी बेल और उनके सहयोगियों ने विशेष रूप से उन लोगों का अध्ययन नहीं किया था जो कोरोनावायरस महामारी के कारण तनाव में थे।

पिताजी के तनाव को शुक्राणु में स्थानांतरित करने में बाह्य पुटिकाओं के लिए एक नवीन भूमिका की जांच करने के लिए, शोधकर्ताओं ने पहले तनाव की, फिर तनाव के उपचार के हार्मोन कॉर्टिकोस्टेरोन को चूहों में सन्निविष्टी की। चूहों की बाह्य कोशिकीय पुटिकाओं की जांच में पाया गया कि उपचार के बाद, बाह्य पुटिकाओं के समग्र आकार के साथ-साथ उनकी प्रोटीन और छोटे आर.एन.ए सामग्री में प्रभावशाली परिवर्तन आया।

जब एक अंडे को निषेचित करने से पहले शुक्राणु को इन "पहले से तनावग्रस्त" बाह्य कोशिकी से उकेरा गया था, जिसके परिणामस्वरूप चूहों के बच्चों के प्रारंभिक मस्तिष्क विकास के पैटर्न या साँचे में महत्वपूर्ण परिवर्तन दिखाई दिया, और वयस्कों के रूप में, सामान्य चूहों की तनाव को नियंत्रण करने के लिए प्रतिक्रिया में और इन चूहों के नियंत्रण प्रतिक्रिया में काफी भिन्नता थी।

यह देखने के लिए कि क्या मानव शुक्राणु में समान अंतर था, शोधकर्ताओं ने पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के छात्रों की भर्ती की और हर महीने, छह महीने तक शुक्राणु दान किये गये और एक प्रश्नावली के जरीये दान कर्ताओं के पूर्ववर्ती महीनों में उनके कथित तनाव का डेटा जमा किया गया। उन्होंने पाया कि जिन छात्रों ने महीनों पहले तनाव में वृद्धि का अनुभव किया था, उनके शुक्राणु की छोटी आर एन ए सामग्री में महत्वपूर्ण बदलाव दिखाई दिए, जबकि जिन लोगों के तनाव के स्तर में कोई बदलाव नहीं हुआ था, उन्हें बहुत कम या कोई बदलाव नहीं हुआ। ये डेटा चूहे के अध्ययन में पाए जाने वाले एक समान सांचे की पुष्टि करता हैं।

"हमारे अध्ययन से पता चलता हैं कि अगर गर्भाधान से पहले पिता ने तनाव की दीर्घकालीन समस्या से ग्रसित हो तो बच्चे का मस्तिष्क अलग तरह से विकसित होता है, लेकिन हम अभी भी इन मतभेदों के निहितार्थ नहीं जान पायें हैं," डॉ. बेल ने कहा, "क्या यह लंबे समय तक तनाव की समस्या के कारण आने वाली संतानों में मानसिक स्वास्थ्य की जोखिम के मुद्दे के पैदा हो सकते हैं या तनाव का अनुभव करने की क्षमता को और अच्छी तरह से प्रबंधित करने में मदद कर सकता है? इसके बारे में वास्तव में हम अभी कुछ नहीं जानते हैं, लेकिन हमारा डेटा इस ओर इंगित करता हैं, इसके लिये आगे अध्ययन करना आवश्यक हैं। "

शोध टीम ने पाया कि पुरुष प्रजनन प्रणाली में तनाव-प्रेरित परिवर्तन तनाव के कम से कम एक महीने बाद होते हैं, और तब तक पुरुष अपने सामान्य जीवन पर फिर लौट आता है। "यह प्रतीत होता हैं कि तनाव के लिए शरीर का अनुकूलन इस नई आधार रेखा पर लौटता हैं," डॉ. बेल ने कहा, "तनाव के बाद की शारीरिक स्थिति जिसे एलोस्टेसिस कहा जाता हैं।"

इस शोध को राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य संस्थान द्वारा वित्त पोषित किया गया था जिसमें यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड स्कूल ऑफ मेडिसिन के इंस्टीट्यूट फॉर जीनोम साइंसेज के सह-लेखक और यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड स्कूल ऑफ फार्मेसी के फार्मास्युटिकल साइंस विभाग के साथ-साथ पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय भी शामिल थे।

यू.एम.एस.ओ.एम. के डीन ई.अल्बर्ट रीस, एम.डी, पी.एच.डी, एम.बी.ए, जो कि चिकित्सा मामलों के कार्यकारी उपाध्यक्ष भी हैं, ने कहा, " यह शोध, अंतर जनपदीय (पीढ़ी) के जीन अभिव्यक्ति में परिवर्तनशील परिवर्तनों के तंत्र को समझने के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण कदम हैं।" मैरीलैंड विश्वविद्यालय के जॉन.जेड और अकीको के.बोवर्स प्रतिष्ठित प्रोफेसर के अनुसार," प्रजनन और प्रारंभिक बचपन के विकास में सुधार के लिए, शुरुआती हस्तक्षेपों की पहचान करने के लिए ऐसा ज्ञान महत्वपूर्ण हैं।"

तनाव प्रबंधन हस्तक्षेपों के कारण, शुक्राणु की संरचना में परिवर्तन होता हैं या उनका क्या प्रभाव हो सकता हैं, इस पर अध्ययन या परीक्षण नहीं किया, डॉ. बेल, जो वर्तमान कोविड़-19 महामारी के तनाव को कम करने के अपने नियमित प्रयत्न के लिए जाने जाते हैं, उनका कहना है कि जो जीवन शैली की आदतें मस्तिष्क के लिए अच्छी हैं, वह प्रजनन प्रणाली के लिए भी अच्छी हैं।

"यह महसूस करना महत्वपूर्ण है कि सामाजिक दूरियों का मतलब सामाजिक अलगाव नहीं है, विशेष रूप से आधुनिक तकनीकों में से कई हमारे पास उपलब्ध हैं," नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ के निदेशक जोशुआ गॉर्डन ने कोरोनावायरस से मुकाबला करने के बारे में अपने वेब संदेश में कहा। "हमारे दोस्तों और प्रियजनों के साथ जुड़ना, चाहे उच्च तकनीक के माध्यम से या सरल फोन कॉल के माध्यम से, हमें तनावपूर्ण दिनों के दौरान संबंधों को बनाए रखने में मदद कर सकता है और हमें इस कठिन मार्ग पर चलने की ताकत देगा।"

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों के कोविड़-19 साइट पर "तनाव और उसका मुक़ाबला " वाले खण्ड में "अपनी मदद स्वयं करिये " में निम्नलिखित सुझाव दिए गए हैं:

  • आप बार-बार महामारी के बारे में सुनकर परेशान हो सकते हैं, इसलिये सोशल मीडिया सहित समाचारों को देखने, पढ़ने या समाचार सुनने से अवकाश लेंवें।
  • अपने शरीर का ध्यान रखें। गहरी साँस लें, अँगड़ाई लेंवें, या ध्यान करें। स्वस्थ संतुलित भोजन करें, नियमित व्यायाम करें, भरपूर नींद लेवें और शराब और नशीले पदार्थों से बचने की कोशिश करें।
  • अन्य गतिविधियों का आनंद लेने की कोशिश कर कें अपने तनाव को कम करें।
  • उन लोगों के साथ संबंध स्थापित करें, जिन पर आप भरोसा कर, बात कर के अपनी चिंताओं और आप कैसा महसूस कर रहे हैं, बता सकते हैं।


  • स्रोत- युरेकाअलर्ट
Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.