कैंसर रोगी कोविड़-19 के प्रति क्यों अधिक संवेदनशील होते हैं?

मुख्य अंश:
  • कैंसर रोगी कोविड़-19 के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं
  • कैंसर के उपचार से अक्सर कैंसर के रोगीयों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती हैं।
  • कोविड़-19 महामारी से बचने के लिए, कैंसर रोगी जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हैं, उन्हें हाथ धोने की उचित तकनीकों का पालन करना, भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचना और खांसी से पीड़ित लोगों से दूरी बनायें रखना जरूरी हैं।
कोविड़-19 मामलों की संख्या आने वाले महीनों में दुनिया भर में बढ़ने का अनुमान है और इसका मतलब है कि अधिक लोगों को खुद की रक्षा करने और बीमारी के संचरण को कम करने में मदद के लिए अतिरिक्त उपाय करने होंगे। यह कैंसर वाले लोगों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली अक्सर उनके कैंसर उपचार से कमजोर हो गई है।

कैंसर रोगियों को कोविड़-19 के विषय में क्यों और क्या जानना चाहिये, इस पर यू.सी.एल.ए. के ऑनकॉलॉजिस्ट गैरी शिल्लर, एम.डी. और जोशुआ सासिन, एम.डी., पी.एच.डी. ने निम्न जानकारी दी:

1. कोरोनोवायरस के बारे में किन कैंसर रोगियों को चिंतित होना चाहिए?

मरीज जो सामान्य मरीजों की तुलना में अधिक जोखिम वाले हैं:
• अस्थि मज्जा कैंसर (बोन मैरो) वाले मरीज,
• विशेष रूप से उन मरीजों को जिन्हें दूसरे लोगों ने बोन मैरो दिया हैं, वे सबसे अधिक कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले रोगी हैं। संक्रमण से अपने जीवन को बचाने के लिए उन्हें खास ध्यान रखने की आवश्यकता हैं।
• जिन मरीजों का पिछले 12 महीनों के भीतर बोन मैरो ट्रांसप्लांट हुआ है,
• 60 वर्ष की आयु से अधिक,
• जिन्हें कैंसर है और वे सक्रिय कीमोथेरेपी पर हैं।

2. कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली होने का क्या मतलब है?

प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होने का मतलब है कि:
• शरीर की श्वेत रक्त कोशिकाएं आमतौर पर बैक्टीरिया, वायरस और कवक जैसे संक्रमणों को दूर करती हैं।
• जब कोशिकाओं की संख्या या कार्य, दोनों में से एक या दोनों में कमी आ जाती है, तो प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हैं यह माना जाता हैं।
• यह कैंसर, एचआईवी या किमोथेरेपी लेने और कई अन्य स्थितियों के कारण भी हो सकती हैं।
• इस प्रकार के रोगियों में संक्रमण होने की संभावनायें अधिक होती हैं और औसत व्यक्ति की तुलना में संक्रमण से इन्हें अधिक नुकसान पहुंचता हैं।

3. क्या कैंसर के रोगियों को सावधानी बरतनी चाहिए?

प्रतिरक्षा में कमजोर रोगियों को इन सब से सावधान रहने की आवश्यकता है:
• हाथ धोने की अच्छी तकनीक बनाए रखें,
• ऐसे व्यक्तियों से दूर रहें जिन्हें खांसी हैं,
• भीड़ में जाने से बचें: बेटे या बेटी की शादी ना हो तो इन सभी योजनाओं को रद्द कर देवें।

4. क्या कैंसर रोगियों को यात्रा की योजनाओं को स्थगित कर देना चाहिए?

उन मरीजों को, विशेष करके जिनका हाल ही में खून या बोन मैरो का प्रत्यारोपण हुआ हैं, उन्हें अभी यात्रा करने से बचना चाहिये।

5. क्या मरीजों के लिए अस्पताल और क्लीनिक में इलाज के लिए आना सुरक्षित है?

अस्पताल निरंतर, कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले रोगियों को सुरक्षित रखनें के लिए बेहतर अलगाव प्रक्रियाओं और नीतियों को विकसित कर, उन्हें लागु करने का काम कर रहे हैं। जैसे कि-
• इन रोगियों को लाने के लिये एक अलग प्रवेश द्वार,
• इनके लिये एक अलग प्रतीक्षालय,
• इनके परिक्षण के लिए एक अलग कमरा।

6. क्या मरीजों को मास्क या सैनिटाइज़र को अधिक मात्रा में जमा करना चाहिए?

मास्क/मुखौटा: यह पर्याप्त सुरक्षित नहीं हैं, विशेष रूप से, जो प्रमाणित मानदंड़ो से निम्न स्तरीय हैं, इससे सुरक्षा की झूठी भावना और सुरक्षा से समझौता होता है।
हैंड सैनिटाइजर: मरीजों को साबुन को अधिक मात्रा में जमा कर रखना चाहिए। बार-बार हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करने के बजाय, साबुन और पानी से हाथ धोना अधिक प्रभावी शाली होगा।

संदर्भ:
  1. कैंसर और कोविड़-19: आपको क्या पता होना चाहिए - (https://cancer.ucla.edu/Home/Compords/News = समाचार / 1464/1631)


स्रोत-न्यूज़वाइज़
Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.

Advertisement