दाह या जलन

 दाह या जलना क्या हैं?  
  • ताप, रसायनों, बिजली, विकिरण के कारण लगने वाली चोटें
  • आग, उष्‍ण तरल पदार्थों और वाष्प के कारण सामान्‍य दाह या जलने की चोटें
  • ताप, रसायनों का त्वचा के संपर्क में आने के कारण दाह या जलना
  • गंभीर दाह या जलना मांसपेशियों, वसा और हड्डियों को प्रभावित करता हैं
  • विशेष रूप से इससे बुजुर्ग और बच्चे प्रभावित होते हैं।
जलने की श्रेणियाँ
  • पहली, दूसरी और तीसरी श्रेणी (डिग्री)
  • इनका वर्गीकरण ऊतकों को हुई क्षति की गंभीरता पर निर्भर करता हैं
  • स्वयं उपचार का निर्णय लेने से पहले जले हिस्‍से के फैलाव की जांच करें
  • यदि जले हुए हिस्‍से का व्यास कुछ इंच से अधिक हैं या
  • इसमें हाथों, पैरों, चेहरे, जांघों या नितम्बों का काफी हिस्‍सा, या प्रमुख जोड़ शामिल हैं, तो मदद प्राप्‍त करें।
पहली श्रेणी(डिग्री) का दाह या जलना
  • क्षति हल्की या ऊपरी सतह पर होती हैं
  • घायल क्षेत्र में सूजन और लालिमा हो जाती हैं
  • दर्द होने लगता हैं
  • किसी प्रकार के छाले दिखाई नहीं देते
  • स्पर्श करने पर जला हुआ क्षेत्र सफेद पड़ जाता हैं
  • ठीक होने में 3 से 6 दिन लग जाते हैं।
उपचार
  • रोगी को जलने वाले स्रोत से हटा दें
  • जले हुए कपड़े उतार दें
  • जले अंग पर ठंडा पानी डालते रहें
  • प्रभावित अंग को धीरे से साफ करें
  • धीरे से सूखाएं
  • जैविकरोधी या एंटीबॉयोटिक लगाएं जैसे सिल्विर सल्फाड़ीऐज़ीन
  • जले हुए अंग को रोगाणुनाशक पटटी बांध कर ढक दें
  • यदि आवश्यक हो तो टेटनस का टीका लगाएं।
  द्वितीय श्रेणी (डिग्री) का दाह या जलना
  • दाह त्वचा की मध्यम परत तक फैल जाता हैं
  • सूजन, दर्द और लालिमा देखी जा सकती हैं
  • जले हुए अंग को स्पर्श करने पर वह सफेद हो सकता हैं
  • फफोले या छाले पड़ सकते हैं, जिनसे मवाद बह सकता हैं
  • त्वचा पर दाग पड़ सकते हैं
  • यदि चोट जोड़ों में लगी है, तब हिलाने से बचें
  • पानी की कमी या निर्जलीकरण भी हो सकती हैं
  • ठीक होने का समय चोट के फैलाव पर निर्भर करता हैं । 
उपचार
  • प्रभावित अंग को अच्छी तरह साफ करें
  • धीरे से सुखाएं
  • प्रभावित अंग पर एंटीबायोटिक क्रीम मलें
  • रोगी को लेटा दें
  • शरीर के जले हुए अंग को ऊंचा उठा कर रखें
  • त्वचा प्रतिरोपण (ग्राफ्ट) की आवश्यकता हो सकती हैं
  • गतिशील होने के लिए भौतिक चिकित्सा या शारीरिक उपचार की आवश्यकता हो सकती हैं
  • प्रभावित जोड़ों को आराम देने के लिए पट्टी या स्प्लिंट का इस्तेमाल किया जा सकता हैं
  • अस्पताल में उपचार कराना आवश्यक हैं।
तीसरी श्रेणी (डिग्री) का दाह या जलना
  • त्वचा की तीनों परतों को क्षति या नुकसान पहुँचता हैं
  • आसपास के केशकूपों या रोमों, पसीने की ग्रंथियों और तंत्रिकाओं के सिरों को नष्ट कर देता हैं
  • नसों के नष्‍ट होने के कारण दर्द कम महसूस होता हैं
  • प्रभावित चोट क्षेत्र का स्पर्श करने पर सफेद नहीं होता हैं
  • किसी प्रकार के छाले या फफोले नहीं दिखते हैं
  • सूजन हो जाती हैं
  • त्वचा चमड़े की भांति रूखी, सख्त दिखाई देती हैं
  • त्वचा का रंग विवर्ण होने लगता हैं
  • दाग धब्‍बे होने लगते हैं
  • रक्‍त संचार की दुर्बलता से पपड़ीदार सतह (एस्कर) विकसित हो जाती हैं
  • पानी की कमी हो जाती हैं जिसके परिणामस्वरूप पीड़ित को सदमा या धक्का लगता हैं
  • समय के साथ लक्षण ओर अधिक खराब हो सकते हैं
  • विरूपता हो सकती हैं
  • स्‍वास्‍थ्‍य लाभ चोट के फैलाव पर निर्भर करता हैं
  • 90% शरीर के सतह की चोट, मौत में परिणत होती हैं
  • बुजुर्गों में 60% चोट, प्राणघातक हो सकती हैं।
उपचार
  • तत्काल अस्पतालीय देखभाल की आवश्यकता होती हैं
  • पानी की कमी का उपचार नसों में तरल दवा की आपूर्ति (ड्रीप्स) के माध्यम से किया जाता हैं
  • ऑक्सीजन दी जाती हैं
  • शल्य चिकित्सा द्वारा झिल्‍ली (एस्कर) निकाली जाती हैं
  • समय-समय पर जले हुए अंग पर साफ ठंड़ा पानी डालें
  • पौष्टिक आहार लेने से जल्दी स्‍वास्‍थ्‍य लाभ होने में मदद मिलती हैं
  • नियमित निगरानी आवश्यक हैं
  • मानसिक अवसाद का उपचार अवसादरोधी दवाई से किया जाता हैं।
निवारण
  • अपने घर में धुएं का अलार्म लगायें
  • घर पर 'बच्चों के अनुकूल' सुरक्षा उपायों को स्थापित करें
  • खाना पकाते समय रेशमी (सिंथेटिक) कपड़े पहनने से बचें
  • घर और कार्यस्थल पर अग्निशमन का अभ्यास करें।
Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.

Advertisement