मधुमेह क्या है?

मधुमेह मेलिटस एक सामान्य स्थिति है जो विश्व की आबादी के एक बड़े हिस्से को प्रभावित करती है। मधुमेह में रोगी की रक्त शर्करा सामान्य से अधिक होती है। हाल के शोध ने साबित कर दिया है कि मधुमेह एक काफी जटिल स्थिति है जिसमें कई प्रक्रिया तंत्र शामिल हैं। मधुमेह पैदा करने वाले सामान्य प्रक्रिया तंत्र निम्न हैं:

  • अग्न्याशय द्वारा इंसुलिन के कम स्राव के कारण इंसुलिन की कमी
  • लक्षित कोशिकाओं पर कार्य करने के लिए इंसुलिन की अक्षमता; इसे इंसुलिन प्रतिरोध के रूप में जाना जाता है
  • लीवर द्वारा ग्लूकोज का अधिक निर्माण

टाइप 2 मधुमेही जो बड़ी उम्र में इस से ग्रस्त हो जाते हैं, आमतौर पर उन्हें इलाज के लिए मौखिक दवाएं दी जाती हैं। इन्हें मौखिक हाइपोग्लाइसेमिक दवाई कहा जाता है या दूसरे शब्दों में ये दवाईयाँं रक्त शर्करा के स्तर को कम करती हैं। कुछ मधुमेहीयों को बाद के चरणों में इंसुलिन के इंजेक्शन भी दिए जाते हैं। यह लेख इस बात की जानकारी देता है कि मौखिक हाइपोग्लाइसेमिक दवाईयाँं क्यों दी जाती हैं और वे कैसे कार्य करती हैं।

मौखिक हाइपोग्लाइसेमिक दवाएं कैसे काम करती हैं?

मौखिक हाइपोग्लाइसेमिक दवाईयाँं या मौखिक मधुमेह दवाईयाँं या मधुमेह की गोलियां कई प्रकार की होती हैं - प्रत्येक समूह में दवाईयाँ अलग-अलग तरीके से एक ही कार्य करती हैं और वह हैं ,रक्त शर्करा को नियंत्रित' करने का। सामान्य प्रक्रिया तंत्र में निम्न शामिल हैं:

  • इंसुलिन स्राव में वृद्धि
  • जिगर या लीवर द्वारा ग्लूकोज उत्पादन में कमी
  • इंसुलिन के प्रति ऊतकों की संवेदनशीलता में वृद्धि। इसके परिणामस्वरूप अधिक ग्लूकोज ऊतकों में प्रवेश करता है, जिससे रक्त में ग्लूकोज की कुल मात्रा कम हो जाती है
  • पाचन तंत्र से ग्लूकोज के अवशोषण में कमी, जिससे रक्त ग्लूकोज कम हो जाता है
  • रक्त ग्लूकोज की कमी से अग्न्याशय ग्लूकागन का निस्तार या छोड़ता हैं। ग्लूकागन अग्न्याशय द्वारा जारी एक हार्मोन है जो इंसुलिन के विपरीत प्रभाव डालता है (इंसुलिन रक्त शर्करा को कम करता है)। यह अग्न्याशय से रक्त में ग्लूकोज छोड़ता है, जिससे रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि होती है
  • विघटन की रोकथाम और इसलिए 'इनक्रिटिन्स और एमिलिन' जैसे हार्मोन के प्रभाव में वृद्धि। ये हार्मोन रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • मूत्र से अतिरिक्त ग्लूकोज के पुन:अवशोषण में कमी आती हैं। इसके परिणामस्वरूप मूत्र के माध्यम से अतिरिक्त ग्लूकोज का उत्सर्जन होता है।

कुछ दवाईयाँं एक से अधिक प्रक्रिया-तंत्रों के माध्यम से कार्य करती हैं।

विभिन्न दवाईयाँं और उनके कार्य

इंसुलिन के अलावा टाइप 2 मधुमेह के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली मुख्य दवाएं नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • इंसुलिन सेक्रेटागॉग्स: इंसुलिन सेक्रेटेगॉग्स (इंग्लिश सीक्रेट + ग्रीक एगोस का मतलब अग्रणी होता हैं), जैसा कि नाम से पता चलता है, यह शरीर में इंसुलिन के निस्तार को बढ़ाता है। इंसुलिन शरीर की कोशिकाओं की सतह पर कार्य करती है और कोशिकाओं में ग्लूकोज के प्रवेश की अनुमति देती है। इस प्रकार, कोशिकाएं विभिन्न कार्यों को करने के लिए ग्लूकोज से अपनी ऊर्जा प्राप्त करती हैं और इस के साथ ही ग्लूकोज का रक्त स्तर भी कम हो जाता है। इन दवाओं के साथ एक बड़ी समस्या यह है कि उच्च खुराक लेने से, वे रक्त शर्करा में अत्यधिक कमी ला सकते हैं, जो बेहोशी जैसे लक्षणों को जन्म दे सकता है। निम्न रक्त शर्करा के इन प्रकरणों को हाइपोग्लाइसेमिक एपिसोड कहा जाता है। आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले इंसुलिन स्रावी पदार्थों में सल्फोनीलुरिया (ग्लाइबराइड, ग्लिपिज़ाइड, ग्लिक्लाज़ाइड और ग्लिमेपाइराइड), रेपैग्लिनाइड और नैटग्लिनाइड शामिल हैं। टाइप 2 मधुमेह के रोगियों में आमतौर पर ग्लाइबराइड, ग्लिपिज़ाइड, ग्लिक्लाज़ाइड और ग्लिमेपाइराइड का उपयोग किया जाता है। अन्य सल्फोनीलुरिया की तुलना में ग्लिपिज़ाइड से गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया होने की संभावना कम होती है। इंसुलिन स्राव को कम करने के अलावा, सल्फोनीलुरिया अतिरिक्त प्रक्रिया-तंत्र के माध्यम से भी कार्य कर सकता है। इसे जिगर या गुर्दे की बीमारी वाले रोगियों को नहीं दिया जाना चाहिए।
  • रेपाग्लिनाइड और नैटग्लिनाइड: इन दवाओं का प्रयोग भोजन के बाद का उच्च ग्लूकोज़ स्तर को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। उन्हें भोजन से ठीक पहले लिया जाता है। अन्य इंसुलिन स्रावों की तुलना में नैटग्लिनाइड के कुछ फायदे हैं - इसमें हाइपोग्लाइसीमिया की घटना कम होती है और इसका उपयोग गुर्दे की शिथिलता वाले रोगियों में किया जा सकता है।
  • मेटफोर्मिन: मेटफोर्मिन एक अपेक्षाकृत पुरानी और प्रामाणित दवा है जिसका प्रयोग अक्सर पहली पसंद के रूप में किया जाता है। हालांकि यह कैसे कार्य करती हैं इसकी प्रक्रिया का सटीक तंत्र ज्ञात नहीं है, लेकिन यह लीवर या यकृत द्वारा ग्लूकोज उत्पादन में कमी जैसे तंत्रों के माध्यम से रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। यह शरीर में इंसुलिन की रिहाई का कारण नहीं बनता है; इसलिए, इसके प्रमुख लाभों में से एक यह है कि यह हाइपोग्लाइकेमिया का कारण नहीं बनता है। इसके अलावा, इस से वजन नहीं बढ़ता है। मुख्य दुष्प्रभाव जठर-संबंधित (गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल) हैं, जो आमतौर पर उपचार के दौरान बाद में कम हो जाते हैं। विटामिन बी12 की कमी पर ध्यान दिया जाना चाहिए। इसका उपयोग किडनी, लीवर या कार्डियोपल्मोनरी डिसफंक्शन वाले रोगियों में नहीं किया जाना चाहिए।
    पियोग्लिटाज़ोन शरीर में इंसुलिन के प्रति ऊतकों की संवेदनशीलता को बढ़ाता है। यह ग्लूकोज को शरीर की कोशिकाओं में प्रवेश करने की अनुमति देता है, और इस तरह रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। इस समूह की अन्य दवाओं को दुष्प्रभाव के कारण वापस ले लिया गया है। ट्रोग्लिटाज़ोन से लीवर खराब होता है, जबकि रोसिग्लिटाज़ोन कंजेस्टिव हार्ट फ़ेलियर से जुड़ा होता है। पियोग्लिटाजोन से वजन बढ़ने, हृदय गति रुकने, महिलाओं में फ्रैक्चर और लंबे समय तक इस्तेमाल से मूत्राशय के कैंसर का खतरा होता है। इसलिए, यह मधुमेह के लिए पसंदीदा दवाओं में से नहीं है।
  • अल्फा ग्लूकोसिडेस इनहिबिटर : एकारबोस और मीग्लिटॉल दवाईयाँ हैं, अल्फा ग्लूकोसिडेज़ इनहिबिटर नामक समूह से संबंधित है। वे छोटी आंत में एंजाइम अल्फा ग्लूकोसिडेज को रोकते हैं, जो स्टार्च जैसे जटिल कार्बोहाइड्रेट के पाचन में मदद करता है। इस प्रकार, वे जटिल कार्बोहाइड्रेट के पाचन में देरी करते हैं जिससे अवशोषित ग्लूकोज की मात्रा और पोस्टप्रैन्डियल रक्त ग्लूकोज स्तर कम हो जाता है। उन्हें प्रत्येक भोजन से ठीक पहले प्रशासित किया जाता है। चूंकि वे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट पर कार्य करते हैं, दुष्प्रभाव भी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल फ़ंक्शन से संबंधित होते हैं और इसमें पेट दर्द, दस्त और पेट फूलना शामिल होता है, जो आगे के उपचार के साथ कम हो जाता है। हाइपोग्लाइसीमिया तब हो सकता है जब उन्हें सल्फोनीलुरिया के साथ प्रशासित किया जाता है; इस हाइपोग्लाइसीमिया का इलाज ग्लूकोज से किया जाना चाहिए न कि चीनी से। आंत्र रोग की सूजन या गुर्दे की बीमारी वाले रोगियों में इन दवाओं का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। जिगर की बीमारी वाले लोगों को भी एकरबोस नहीं देना चाहिए।
  • कोलेसीवेलम हाइड्रोक्लोराइड: कोलीसेवेलम हाइड्रोक्लोराइड एक ऐसी दवा है जिसका उपयोग उन रोगियों के लिए एक अतिरिक्त चिकित्सा के रूप में किया जाता है जो मधुमेह की अन्य दवाओं से नियंत्रित नहीं होते हैं। यह ग्लूकोज के अवशोषण को कम कर सकता है, हालांकि इसकी क्रिया का सटीक तंत्र ज्ञात नहीं है। एक बार मौखिक रूप से लेने के बाद, यह पाचन तंत्र में रहता है और रक्त में अवशोषित नहीं होता है। दुष्प्रभाव मुख्य रूप से जठर-संबंधित (गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल) हैं जैसे पेट फूलना, दस्त और अपच। इसे अन्य दवाओं के साथ नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि यह उनके अवशोषण को रोक सकता है। इसका उपयोग पाचन तंत्र विकारों, अग्नाशयशोथ और हाइपरट्रिग्लिसराइडिमिया वाले रोगियों में भी नहीं किया जाना चाहिए। .
  • डिपेप्टिडाइल पेप्टिडेज़-4 इनहिबिटर: दवाओं का एक अपेक्षाकृत नया समूह, सीटाग्लिप्टिन, सैक्सैग्लिप्टिन, लिनाग्लिप्टिन और एलोग्लिप्टिन डाइपेप्टिडाइल पेप्टिडेज़-4 (DDP-4) नामक एक एंजाइम को रोककर काम करते हैं।

इन्क्रीटिन हार्मोन GLP-1 (ग्लूकागन जैसा पेप्टाइड-1) और GIP (ग्लूकोज पर निर्भर इंसुलिनोट्रोपिक पेप्टाइड) ग्लूकागन के स्तर को कम करते हैं और इंसुलिन के स्राव को बढ़ाते हैं। इस प्रकार, वे रक्त शर्करा को कम करते हैं। आम तौर पर एंजाइम डाइपेप्टिडाइल पेप्टिडेज़ -4 (डीडीपी -4) द्वारा इंक्रीटिन को नष्ट कर दिया जाता है। इस प्रकार, इस एंजाइम को दवाओं के साथ बाधित करने से, रक्त में इन्क्रीटिन का स्तर बढ़ जाता है और रक्त शर्करा कम हो जाता है।

मधुमेह दवाईयाँ, अग्नाशयशोथ और एलर्जी प्रतिक्रियाओं के साथ संयुक्त होने पर इन दवाईयों के दुष्प्रभाव में ऊपरी श्वसन पथ केा संक्रमण और सूजन, सिरदर्द, हाइपोग्लाइसीमिया शामिल हैं। कुछ देशों में एक नई दवा विडाग्लिप्टिन उपलब्ध है।

  • चयनात्मक सोडियम-ग्लूकोज ट्रांसपोर्टर-2 (SGLT-2) अवरोधक: SGLT-2 अवरोधक गुर्दे के स्तर पर कार्य करते हैं। वे मूत्र के माध्यम से अत्यधिक ग्लूकोज को बाहर निकालते हैं। हालाँकि, यह क्रिया तभी देखी जाती है जब रक्त शर्करा सामान्य से ऊपर उठ जाता है; वे रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य से कम नहीं करते हैं। इस समूह की दवाओं में कैनाग्लिफ्लोज़िन, डैपाग्लिफ़्लोज़िन और एम्पाग्लिफ़्लोज़िन शामिल हैं। एफडीए (FDA) ने हाल ही में एक चेतावनी जारी की है कि ये दवाईयाँ डायबिटिक कीटोएसिडोसिस नामक एक गंभीर स्थिति पैदा कर सकती हैं, जिसके लिए आपातकालीन उपचार की आवश्यकता होती है। जब मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर और मूत्र में ग्लूकोज एकाग्रता में वृद्धि के कारण मूत्र-द्वार में होने वाले फंगल संक्रमण का इलाज करने के लिए दी जाने वाली दवाइयों के साथ इन्हें जोड़ा जाता है तो अन्य संभावित प्रतिकूल प्रभावों में निर्जलीकरण, गुर्दे की समस्याएं, हाइपोग्लाइसीमिया भी शामिल हो जाते हैं।

इंसुलिन के अलावा अन्य इंजेक्शन मधुमेह विरोधी दवाईयाँ

मौखिक मधुमेह विरोधी दवाओं और इंसुलिन के अलावा, कुछ अन्य दवाईयाँ हैं जो इंजेक्शन के रूप में दी जाती हैं। इनमें एमिलिन एनालॉग प्राम्लिंटाइड, और ग्लूकागन-जैसे पॉलीपेप्टाइड -1 (जीएलपी -1) रिसेप्टर एगोनिस्ट, एक्सैनाटाइड और लिराग्लूटाइड शामिल हैं।

  • प्राम्लिंटाइड: प्राम्लिंटाइड एमीलिन का एक अनुरूप (एनालॉग) है, जो अग्न्याशय के द्वारा स्रावित एक हार्मोन है। यह कई तंत्रों के माध्यम से कार्य करता है जैसे ग्लूकागन के प्रवाह को कम करना, जठर को (गैस्ट्रिक) खाली करने में देरी और भूख कम करना। प्राम्लिंटाइड एक मौखिक हाइपोग्लाइसेमिक घटक नहीं हैं वास्तव में इसे मधुमेह रोगियों में पेट या जांघ में इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है। यह इंसुलिन के साथ भोजन से ठीक पहले एक अलग सिरिंज में दिया जाता है।

दुष्प्रभाव में हाइपोग्लाइसीमिया, एनोरेक्सिया, जी मिचलाना और उल्टी शामिल हैं।

  • ग्लूकागन की तरह पॉलीपेप्टाइड -1 (जीएलपी -1) रिसेप्टर एगोनिस्ट : जीएलपी -1 रिसेप्टर एगोनिस्ट में एक्सैनाटाइड, एल्बिग्लूटाइड, लिराग्लूटाइड और ड्यूलग्लूटाइड दवाईयाँ शामिल हैं। ये दवाईयाँ शरीर में ग्लूकोज के उच्च स्तर की प्रतिक्रिया में इंसुलिन स्राव को बढ़ाती हैं, भोजन के बाद ग्लूकागन स्राव को कम करती हैं, जठर को गैस्ट्रिक को धीमा खाली करती हैं और भूख को कम करती हैं। एक्सानेटाइड इंजेक्शन भोजन से एक घंटे पहले दिया जाता है। लिराग्लूटाइड लंबे समय तक काम करने वाला है और इसे दिन में एक बार दिया जा सकता है।

सल्फोनीलुरिया और अग्नाशयशोथ के साथ दिए जाने पर सिरदर्द, जी मिचलाना, दस्त, हाइपोग्लाइसीमिया जैसे दुष्प्रभाव होते हैं। इंसुलिन लेने वाले मरीजों को ये दवाईयाँ नहीं दी जानी चाहिए। ये दवाईयाँ थायराइड कैंसर या मल्टीपल एंडोक्राइन नियोप्लासिया टाइप 2 के इतिहास वाले रोगियों को नहीं दी जानी चाहिए।

एल्बिग्लूटाइड और ड्यूलग्लूटाइड को सप्ताह में एक बार दिया जा सकता है।

उपरोक्त दवाईयाँ के अलावा, ब्रोमोक्रिप्टीन दवा को भी टाइप 2 मधुमेह के उपचार के लिए मान्य किया गया है क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में एक अहम भूमिका निभाता है। आमतौर पर टाइप 2 का उपचार पुरानी दवाईयों के साथ शुरू होता है, क्योंकि इन दवाईयों की प्रामाणिकता सिद्ध है। जिन लोगों में इन पुरानी दवाईयों का पूरी तरह असर नहीं होता हैं, उन्हें बेहतर नियंत्रित करने के लिए अक्सर इन में नई दवाईयाँ जोड़ दी जाती हैं। कुछ नई दवाईयाँ दुष्प्रभाव (साइड इफेक्ट) से जुड़ी हैं। चूंकि मधुमेह एक जीवन भर चलने वाली बीमारी है, जब तक कि उनकी दीर्घकालिक सुरक्षा के बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध न हो, इन दवाओं को प्रारंभिक घटकों के रूप में या मुख्य दवाईयों के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिये।

उपचार शुरू करने के लिए सबसे आम दवा मेटफॉर्मिन है। आवश्यक ग्लूकोज स्तर प्राप्त होने तक खुराक को बढ़ाया जाता है। यदि आवश्यक ग्लूकोज स्तर प्राप्त नहीं होता है या यदि रोगी में उच्च खुराक से दुष्प्रभाव होने लगता है, तो दूसरी दवा जोड़ दी जाती है।

संयोजित या मिश्रित दवाओं का उपयोग क्यों किया जाता है?

मधुमेह में दवाओं का संयोजन कभी-कभी आवश्यक होता है। विभिन्न तंत्रों द्वारा कार्य करने वाली दवाएं एक अतिरिक्त प्रभाव ला सकती हैं। इस प्रकार, संयोजन उन लोगों में रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है जिनके रक्त शर्करा को एक दवा से नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।

दवाओं के साथ इंसुलिन का उपयोग क्यों करें?

जो रोगी कई मौखिक मधुमेह विरोधी दवाएं लेने के बावजूद रक्त शर्करा का अच्छा नियंत्रण प्राप्त नहीं करते हैं, उन्हें अतिरिक्त प्रभाव के लिए इंसुलिन दिया जाता है। प्रारंभ में, इंसुलिन को सोते समय प्रशासित किया जाता है। यदि नियंत्रण अभी भी प्राप्त नहीं हुआ है, तो रोगी को नियमित इंसुलिन थेरेपी में स्थानांतरित कर दिया जाना चाहिए।

सर्जरी या गंभीर संक्रमण जैसी आपातकालीन स्थितियों में मौखिक हाइपोग्लाइसेमिक दवाओं को बदलने के लिए इंसुलिन का भी उपयोग किया जाता है।

मधुमेह के लिए महत्वपूर्ण स्वास्थ्य युक्तियाँ

  • मधुमेहीयों में आहार नियंत्रण और व्यायाम के महत्व को कम करके नहीं आंका जाना चाहिए। यहां तक कि अगर आप मधुमेह विरोधी दवाईयाँ ले रहे हैं, तो भी ये उपाय आपकी खुराक को कम से कम रखने में मदद करेंगे।
  • मधुमेह की जटिलताओं के लिए नियमित जांच करवाएं। यदि प्रारंभिक अवस्था में इन्हें नियंत्रित किया जा सकता है, तो आप मधुमेह के कारण होने वाली विकलांगता से बचने में सक्षम हो सकते हैं।
  • अगर आपको लगता है कि दवाईयों के कारण आपकी ब्लड शुगर कम हो रही हैं, तो ग्लूकोज़ लेने में संकोच न करें। अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से तत्काल मिले और रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी कर के दवाईयों को कम ज्यादा करने के लिए सलाह लेवें। अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से तत्काल मिले और रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी कर के दवाईयों को कम ज्यादा करने के लिए सलाह लेवें।
Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.