मेटफॉर्मिन क्या है?

मेटफॉर्मिन टाइप-2 डायबिटीज के इलाज के लिए पहली पंक्ति की दवा है। इसे 1922 में खोजा गया था और यह फ्रेंच लिलिऐक (गलिगा ऑफिसिनलिस) नामक पौधे से उत्पन्न होता है। मेटफॉर्मिन का उपयोग मेटफॉर्मिन हाइड्रोक्लोराइड नमक के रूप में किया जाता है और मुंह से प्रशासित किया जाता है। यह मधुमेह के लिए सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली दवा है। यह इंसुलिन सहित अन्य मधुमेह विरोधी दवाओं के संयोजन में निर्धारित कर के दी जाती है।

मेटफॉर्मिन लीवर द्वारा किये जाने वाले ग्लूकोज उत्पादन को कम करके और ऊतकों टीश्यू की कोशिकाओं की इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाकर रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। यह जठरांत्र या पाचन संबंधी मार्ग से ग्लूकोज के अवशोषण को कम करता है और परिधीय ग्लूकोज का सेवन बढ़ाता है।

मधुमेह के अलावा मेटफॉर्मिन के अन्य क्या उपयोग हैं?

मेटफॉर्मिन के कई चिकित्सीय प्रभावों के बारे में बताया गया है, हालांकि मधुमेह के अलावा अन्य उपयोगों के लिए इन सबके लिये इसकी प्रतिक्रिया अभी तक प्रमाणित नहीं हुई है। इसे मोटापे से लेकर कैंसर तक की बीमारियों का इलाज बताया गया है।

पीसीओएस एक हार्मोनल विकार है जो आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारकों के कारण हो सकता है। पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं में इंसुलिन प्रतिरोध होता है जिससे इंसुलिन का उच्च स्तर हो जाता है। इससे अंडाशय टेस्टोस्टेरोन जैसे एंड्रोजन हार्मोन का अधिक उत्पादन करते हैं। नतीजन, रोगियों के शरीर के बाल बढ़ जाते हैं, मुंहासे, अनियमित मासिक धर्म और प्रजनन संबंधी समस्याएं देखी जाती हैं, जो कि पीसीओएस के मुख्य लक्षण हैं ।

मेटफॉर्मिन इंसुलिन सेंसिटाइज़र के रूप में इंसुलिन के स्तर को कम करने में मदद करती है। यह सीरम एण्ड्रोजन के स्तर को कम करके पीसीओएस सिंड्रोम की प्रजनन संबंधी असामान्यताओं में भी सहायता करती है। यह ओव्यूलेशन को भी उत्तेजित करती है और मासिक धर्म चक्र में को नियमित करने में मदद करती है।

विभिन्न केंद्रों पर किए गए अध्ययनों ने पुष्टि की है कि कम से कम छह महीने के लिए मेटफॉर्मिन उपचार पीसीओएस सिंड्रोम से पीड़ित महिलाओं में एण्ड्रोजन के स्तर को कम करता है। गर्भावस्था (जेस्टेशनल) का मधुमेह (GD), एक ऐसी स्थिति जिसमें एक महिला को गर्भावस्था के दौरान डायबिटीज़ हो जाती है।

गर्भावस्था के दौरान जीडी होना मां और शिशु के लिए एक जोखिम कारक है। इसलिए गर्भपात को रोकने के लिए इंसुलिन प्रतिरोधी महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान मेटफॉर्मिन थेरेपी का पालन करना महत्वपूर्ण है।

  • कुछ नैदानिक परीक्षणों से संकेत मिलता है कि मेटफॉर्मिन मोटे गैर-मधुमेही व्यक्तियों की भूख कम करके उन्हें वजन कम करने में मदद करता है।

यह पाया गया है कि मोटापा, विशेष रूप से यकृत लीवर और अग्न्याशय में अत्यधिक वसा, इंसुलिन प्रतिरोध के कारणों में से एक है। इंसुलिन प्रतिरोध की इस स्थिति में, वसा कोशिकाएं, यकृत कोशिकाएं और मांसपेशियां इंसुलिन पर प्रतिक्रिया नहीं करती हैं और रक्त से ग्लूकोज को अवशोषित करने में असमर्थ होती हैं। इससे शरीर रक्त से शर्करा को अवशोषित करने के लिए अधिक इंसुलिन का उत्पादन करता है। इंसुलिन हार्मोन मस्तिष्क को उत्तेजित करता है जिससे भूख लगती है और इसलिए इन स्थितियों में व्यक्ति की भूख बढ़ जाती है। मेटफॉर्मिन रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ने से रोकता है, इस प्रकार इंसुलिन के निस्तार को कम करता है और इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाता है। जिस से रोगी को भूख नहीं लगती और उसका वजन कम हो जाता है।

  • दुनिया भर के वैज्ञानिक भी मेटफॉर्मिन का मूल्यांकन आयुर्वृद्धि दवा के रूप में कर रहे हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि मेटफॉर्मिन कोशिका में ऑक्सीजन के अणुओं की संख्या को बढ़ाता है, जो दीर्घायु को बढ़ाने में मदद करेगा। मेटफॉर्मिन उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है, इस पर नैदानिक परीक्षण तेज गति से हो रहा है।
  • कुछ रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि मेटफॉर्मिन हृदय रोग और मधुमेह की कैंसर की जटिलताओं को रोक सकता है। यह कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (LDL) और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में भी सक्षम है।
  • हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि मेटफॉर्मिन ओपन एंगल ग्लूकोमा के जोखिम को कम करता है।

मेटफॉर्मिन के दुष्प्रभाव क्या हैं?

  • मेटफॉर्मिन के आम दुष्प्रभावों में शामिल हैं गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल जलन, पेट फूलना, दस्त, मतली, मांसपेशियों में दर्द और पेट दर्द। इसलिए गैस्ट्रो-आंतों से संबंधित दुष्प्रभावों को कम करने के लिए मेटफॉर्मिन को भोजन के साथ लेना चाहिए। गंभीर लीवर की बीमारी या गुर्दे की समस्याओं वाले रोगियों को इसे नहीं लेना चाहिये।
  • मेटफॉर्मिन थायराइड-उत्तेजक हार्मोन को प्रभावित कर रक्त स्तर को कम करती हैं जिस से रोगियों में थायराइड हार्मोन (हाइपोथायरायडिज्म) की कमी हो जाती हैं।
  • यदि किसी व्यक्ति को सीने में दर्द, शरीर में चकते या दाने जैसे गंभीर लक्षणों का अनुभव होता है, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

मेटफॉर्मिन को सुरक्षित और व्यापक रूप से स्वीकार्य दवा क्यों माना जाता है?

मेटफॉर्मिन का वजन बढ़ने पर कम प्रभाव होता है, जबकि अन्य मधुमेह-रोधी दवाईयाँ जैसे सल्फ़ोनिल यूरिया आदि मेटफॉर्मिन की तुलना में वज़न बढ़ाती हैं। मधुमेह की अन्य दवाओं की तुलना में इसमें हाइपोग्लाइसीमिया की जोखिम कम है। गर्भावस्था के दौरान इस दवा का सेवन करना भी सुरक्षित है।

मेटफॉर्मिन का सेवन कब वर्जित है?

  • मेटफॉर्मिन किसी भी स्थिति से ऐसे पीड़ित रोगियों को जिसमें वह लैक्टिक एसिडोसिस का कारण बन सकती है, नहीं देना चाहिये। इनमें लीवर, गुर्दे और फेफड़ों के रोग भी शामिल हैं।
  • जिन रोगयों को उन स्कैनों की जरूरत हो जिसमें डाई या आयोडीन युक्त घटको का प्रयोग किया जाता हैं, ऐसी स्थिती में मेटफॉर्मिन को अस्थायी रूप से बंद करने की सलाह दी जाती है। डाई आदि कुछ समय के लिये गुर्दे के कार्य को प्रभावित कर सकते हैं, जिससे शरीर में मेटफोर्मिन की अवधारण हो सकती है, जो लैक्टिक एसिडोसिस का कारण बन सकती है।
Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.