मधुमेह आहार योजना का एक नमूना

एक संतुलित मधुमेह आहार इस प्रकार होना चाहिए :

  • अपनी थाली को आधे में और शेष आधे भाग को दो बराबर भागों में विभाजित करें
  • पहले आधे भाग को सब्जियों से भरें जैसे कि लेट्यूस , ब्रोकोली, पालक, गाजर, हरी बीन्स, टमाटर, सेलेरी, गोभी, मशरूम आदि। मकई, मटर, आलू, यम और विंटर स्क्वैश की मात्रा को सीमित करें।
  • प्लेट के पहले पाव भाग को प्रोटीन युक्त भोजन जैसे मांस, चिकन, बीफ, मछली, अंडे, टोफू, पनीर, दाल आदि से भरें।
  • दूसरे पाव भाग को कम वसा वाले पदार्थ जैसे कि शुगर-फ्री दही या दूध लें या कम से कम एक अमरूद, सेब, जामुन या किसी भी खट्टे फल जैसे फलों से भरें।
  • तले हुये भोजन से बचें। इसके बजाय नॉनस्टिक पैन में खाना बेक करें, उबालें या भूनें।
  • अंग मीट से बचें, रेड मीट कम और मछली ज्यादा खाएं।
  • केचप, सरसों और सलाद ड्रेसिंग जैसे मसालों का उपयोग सीमित करें क्योंकि इनमें नमक और चीनी की मात्रा अधिक होती है।
  • डिब्बाबंद भोजन के बजाय ताजा भोजन चुनें।
  • लेबल को ध्यान से पढ़ें, सोया सॉस और एमएसजी में बहुत अधिक सोडियम होता है।
  • रेडी टू ईट और बाजार में उपलब्ध जंक फूड्स से बचें।
  • धूम्रपान और शराब का सेवन बंद करें।
  • भोजन न छोड़ें और दवा के समय का पालन करें।
  • कोलेस्ट्रॉल कम के लिये नाश्ते में दलिया लें।
  • पेकान, अखरोट जैसे मोनो असंतृप्त वसा से भरपूर मेवे और बादाम एक स्वस्थ नाश्ता है।
  • वसा रहित दूध, दही और पनीर चुनें।
  • अंडे की सफेदी को आहार में शामिल करना चाहिए।
  • अपने गेहूं के आटे (50% गेहूं का आटा + 50% गेहूं की भूसी) में गेहूं की भूसी को शामिल करके आहार में फाइबर बढ़ाएं। गेहूं के आटे में अलसी और मेथी के बीज का पाउड़र मिलाएं। फल, सब्जियां , साबुत अनाज आदि के रूप में फाइबर का सेवन बढ़ाएं।
  • फ्रूट जूस, सोडा के बजाय पानी मिनरल वाटर, छाछ, सूप, सोया दूध और अन्य स्वस्थ पेय जो मीठे ना हो उनका सेवन करें।

मधुमेह आहार योजना का महत्व:

  • यह कम कार्ब वाला मधुमेह आहार पूरे दिन कार्बोहाइड्रेट का समान वितरण प्रदान करता है, जो रक्त शर्करा स्तर को सामान्य सीमा के भीतर बनाए रखने में मदद करता है।
  • यह आहार फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट और अच्छी गुणवत्ता प्रोटीन खपत पर अधिक जोर देता है, जो की एक पौष्टिक आहार का अनिवार्य हिस्सा हैं।
  • यह एक अच्छा मधुमेह आहार है और यह वजन कम करने में मदद करता है। वजन घटने से इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ेगी और डायबिटीज को बेहतर ढ़ंग से नियंत्रित किया जा सकेगा।
  • अगर आप डायबिटिक हैं तो होटल में भोजन लेते समय ध्यान रखें, गरल भोजन के बजाय, सलाद, कम कैलोरी वाले ऐपेटाइज़र और सूप को अधिक मात्रा में लेवें।
Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.

Advertisement