उपचार

गर्भकालीन मधुमेह के प्रबंधनका मुख्य आधार रक्त शर्करा के स्तर की सावधानीपूर्वक निगरानी करना और प्रसव पूर्व डॉक्टर के पास जाँच के लिये बार-बार जाना भी शामिल है। माँ और बच्चे दोनों के लिए प्रतिकूल प्रभावों को रोकने के लिए रक्त शर्करा को नियंत्रित करना आवश्यक है।

इसके अलावा निम्नलिखित सुझाव है -

आहार

अधिक फलों और सब्जियों का सेवन और स्टार्चयुक्त भोजन कम करने की सलाह दी जाती है। आहार को प्रभावित व्यक्तियों के रक्त शर्करा के स्तर के अनुसार तैयार किया जाना चाहिए।

व्यायाम

नियमित मध्यम शारीरिक व्यायाम के अनेक लाभ हैं। व्यायाम ऊर्जा के लिए ग्लूकोज के उपयोग को बढ़ा सकता है जिससे रक्त शर्करा का स्तर कम हो सकता है। यह भी देखा गया है कि व्यायाम करने से इंसुलिन प्रतिरोध कम हो सकता है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि आप खुद पर ज्यादा दबाव न डालें !!

इंसुलिन

यदि उपरोक्त उपायों से ब्लड ग्लूकोज़ नियंत्रित नहीं होता है, तो डॉक्टर इंसुलिन इंजेक्शन जैसी दवाएं लिख सकते हैं जिन्हें नियमित रूप से प्रशासित किया जाना चाहिए। रक्त शर्करा के स्तर की लगातार निगरानी रखें।

आजकल, घरेलू रक्त शर्करा निगरानी के लिए विश्वसनीय उपकरण उपलब्ध हैं। लेकिन इंजेक्शन के समय हाइपोग्लाइसीमिया (शर्करा का स्तर कम होना) के लक्षणों को अवश्य जान लें।

एक सामान्य नियम के रूप में मधुमेह विरोधी मौखिक गोलियां गर्भावस्था के दौरान निर्धारित नहीं की जाती हैं क्योंकि वे भ्रूण के विकास में कुछ समस्याएं पैदा कर सकती हैं।

डिलीवरी

यदि रक्त में ग्लूकोज का स्तर लगभग सामान्य बना रहता है और कोई अन्य जटिलताएं नहीं हैं, तो महिला की सामान्य डिलीवरी हो सकती है।

प्रसव के दौरान ग्लूकोज के स्तर और प्रशासित इंसुलिन की बारीकी से और बार-बार निगरानी की जानी चाहिए। यह जाँचने के लिए ध्यान रखा जाता है कि क्या बच्चा बड़े आकार का है, क्योंकि तब योनि प्रसव संभव नहीं हो सकता है। ऐसे मामलों में सिजेरियन सेक्शन का सहारा लिया जा सकता है।

प्रसव के बाद रक्त शर्करा में गिरावट होगी और इसलिए इंसुलिन का स्तर अनुमापित किया जाता है। हाइपोग्लाइसीमिया और हाइपरग्लेसेमिया (उच्च ग्लूकोज स्तर) दोनों को रोकने के लिए शुरुआती दिनों में रक्त शर्करा की अक्सर निगरानी की जाएगी। प्रसव के बाद महिला को संक्रमण से बचाने के लिए एंटीबायोटिक्स भी दी जाती हैं।

हाल ही में पैदा हुए बच्चे को हाइपोग्लाइसीमिया, सांस लेने में तकलीफ या पीलिया के लक्षणों के लिए बारीकी से देखा जाता है। यदि ऐसी कोई स्थिति मौजूद है तो बच्चे का इलाज उसी के अनुसार किया जाता है

Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.