सूक्ष्मजीवी परिवर्तन-करण और कोरोना वायरस

सूक्ष्मजीवी परिवर्तन-करण और कोरोना वायरस

पशु मेजबान के माध्यम से रोगाणु मनुष्यों के संपर्क में आते हैं और बाद में जीवित रहने के लिए ये माइक्रोबियल प्रजातियाँ ऐसी क्षमता विकसित करती है जहां यह अपने मेजबान प्रजाति को संक्रमित करना जारी रखती है। जब एक वायरस के प्रोटीन में उत्परिवर्तन या म्यूटेशन होता है जो इसे आंशिक रूप से मानव में विकसित प्रतिरक्षा तंत्र के लिए प्रतिरोधी बनाते है या जब दो या दो से अधिक वायरस एक नई इकाई बनाने के लिए अपनी आनुवंशिक सामग्री का आदान-प्रदान करते हैं, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए पूरी तरह से अपरिचित है, तब इसे सूक्ष्मजीवी परिवर्तन-करण या माइक्रोबियल म्यूटेशन कहते हैं।

सब देखें >>
सब देखें >>
सूक्ष्मजीवी परिवर्तन-करण और कोरोना वायरस

सूक्ष्मजीवी परिवर्तन-करण और कोरोना वायरस

पशु मेजबान के माध्यम से रोगाणु मनुष्यों के संपर्क में आते हैं और बाद में जीवित रहने के लिए ये माइक्रोबियल प्रजातियाँ ऐसी क्षमता विकसित करती है जहां यह अपने मेजबान प्रजाति को संक्रमित करना जारी रखती है। जब एक वायरस के प्रोटीन में उत्परिवर्तन या म्यूटेशन होता है जो इसे आंशिक रूप से मानव में विकसित प्रतिरक्षा तंत्र के लिए प्रतिरोधी बनाते है या जब दो या दो से अधिक वायरस एक नई इकाई बनाने के लिए अपनी आनुवंशिक सामग्री का आदान-प्रदान करते हैं, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए पूरी तरह से अपरिचित है, तब इसे सूक्ष्मजीवी परिवर्तन-करण या माइक्रोबियल म्यूटेशन कहते हैं।

सब देखें >>

स्वास्थ कैलक्युलेटर

रक्त शक्कर तालिका (कैलक्युलेटर)
बॉडी मास इंडेक्स (बी एम आई)
बच्चे का आदर्श वजन
बच्चों के लिए आदर्श ऊंचाई और वजन की गणना
शरीरिक बनावट के अनुसार ऊंचाई और वजन - वयस्क
शरीरिक बनावट और आकार कैलक्युलेटर
रक्त चाप तालिका (ब्लड प्रेशर चार्ट)
नाड़ी स्पन्दन अनुपात (या) दिल की धड़कन माप तालिका
रक्त समूह की तालिका
अंड़ोत्सर्ग/गर्भ धारण करने के दिनों की तालिका/गणक
गर्भावस्था की पुष्टि कैलक्युलेटर
आयु और जीवन शैली के लिए कैलोरी की आवश्यकताएँ

स्पेशलिटी /विशेषझता

यूरॉलजी(किड़नी,पेशाब,पथरी,प्रजनन से संबंधित शल्य चिकित्सा)
डायाबैटॉलजी (मधुमेह/शक्कर से संबंधित)
ई एन टी(कान,नाक और गले से संबंधित चिकित्सा)
पैथॉलजी (रोग होने की वजह की जांच)
फिजियोथ्रेपी (कसरत संबंधित)
ऑनकॉलजी-मेड़ीकल(कैंसर से संबंधित चिकित्सा)
एनेस्थेसियॉलजी (असंवेदनता/संमूर्छा से सबंधित चिकित्सा)
सैक्सॉलजी (यौन रोगों से संबंधित)