निदान

अधिकांश लोगों में मधुमेह के विशिष्ट 'संकेत और लक्षण' दिखाई नहीं देते हैं और जब तक मधुमेह रोग जटिल ना हो जाये तब तक वे इसके अस्तित्व से अनजान रहते हैं।

टाइप 2 मधुमेह का शीघ्र पता लगने से शीघ्र उपचार हो सकता है और शरीर के अंगों को नुकसान से बचाया जा सकता है।

निदान नस के रक्त के नमूनों का परीक्षण करके किया जाना चाहिए और मूत्र के नमूने से नहीं। किसी व्यक्ति को मधुमेह है या नहीं, यह पता लगाने के लिए ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (जीटीटी) सबसे आदर्श परीक्षण है।

ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (GTT)

  • व्यक्ति को नियमित व्यायाम और आहार पर होना चाहिए
  • रक्त कम से कम 8 घंटे के उपवास के बाद लिया जाता है
  • प्रारंभिक रक्त संग्रह के बाद, 75 ग्राम निर्जल ग्लूकोज को पानी में घोलकर मौखिक रूप से दिया जाता है
  • व्यक्ति को परीक्षण के बीच आराम करना चाहिए और धूम्रपान नहीं करना चाहिए
  • ग्लूकोज अंतर्ग्रहण के दो घंटे बाद फिर से परीक्षण के लिए रक्त निकाला जाता है।

नैदानिक मान नीचे दिए गए हैं:

डायबिटीज मेलिटस

उपवास >/= 110

ग्लूकोज लोड होने के 2 घंटे बाद >/= 180

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस (IGT)

उपवास -<110

ग्लूकोज लोड के बाद ->=120/ &<180

इन रोगियों को उच्च रक्तचाप, मोटापा और लिपिड विकार जैसी अन्य जटिलताएं हों सकती है।

खराब उपवास ग्लाइसेमिया

उपवास >/=100 और <110

इस मामले में केवल उपवास परीक्षण किया जा सकता है।

प्रबंधन और रोकथाम

डायबिटीज मेलिटस टाइप 2 एक ऐसी बीमारी है जिसके गंभीर परिणाम हैं। इसमें शरीर के अंगों जैसे कि आंखें, गुर्दे और हृदय को नुकसान पहुंचाने की क्षमता होती है।

हालांकि यह जानकर खुशी हो सकती है कि इस बीमारी को बड़े पैमाने पर किसी व्यक्ति की जीवनशैली में सचेत परिवर्तन द्वारा प्रबंधित किया जा सकता है जिसमें मुख्य रूप से शामिल हैं नियमित व्यायाम और स्वस्थ खान-पान।

30 मिनट प्रतिदिन नियमित व्यायाम या सप्ताह में 5 बार व्यायाम से, वजन घटे या न घटे लकिन ग्लाइसेमिक स्तर को प्रभावशाली रूप से कम करता है। इसके अलावा आंतों की वसा तंतुओं और प्लाज्मा ट्राइग्लिसराइड का स्तर भी कम करता है।

हालाँकि व्यायाम के माध्यम से कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम या नियंत्रण में नहीं लाया जा सकता है।
[नोट: आंत का वसा (विसरल ऐडिपोज़ टीश्यू) पेट के अंगों के बीच में और ओमेंटम नामक ऊतक के पास में स्थित होता है। उपचर्म वसा (ऐडिपोज़ टीश्यू) त्वचा और पेट की बाहरी दीवार के बीच स्थित होता है। आंत का वसा बहुत हानिकारक है, क्योंकि वह निवाहिका शिरा (पोर्टल वेंस) के पास होता है, जो आंतों के क्षेत्र से यकृत (लीवर) तक रक्त ले जाता है। आंत के वसा द्वारा जारी किया गया फैटी एसिड पदार्थ, पोर्टल शिरा में प्रवेश करता हैं और फिर यकृत में जा कर, वे रक्त के वसा (ब्लड लिपिड) उत्पादन को प्रभावित कर सकते हैं।]

पूर्व मधुमेह वाले व्यक्तियों में निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं:

  • उपवास की स्थिति में और मौखिक ग्लूकोज लोड (ग्लूकोज असहिष्णुता परिक्षण) के बाद प्लाज्मा ग्लूकोज के स्तर में वृद्धि
  • अधिक वजन / मोटापा विशेष रूप से एक गतिहीन जीवन शैली के कारण।

जीवनशैली में बदलाव करके जोखिम कारकों को कम करें- नई संशोधित जीवनशैली वाले कार्यक्रम और मेटफॉर्मिन जैसी दवाओं का संयोजन, मधुमेह की शुरुआत को रोकने या देरी करने में एक बड़ी अहम भूमिका निभाता है।

टाइप 2 मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए जीवनशैली में परिवर्तन आवश्यक है। इस नई जीवनशैली के कार्यक्रम में निम्न घटकों को शामिल करना जरूरी हैं:

वजन घटाना- यह शारीरिक गतिविधि और कम वसा वाले उच्च फाइबर आहार के द्वारा किया जा सकता है। बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) का उपयोग यह पता लगाने में मदद कर सकता है कि क्या कोई व्यक्ति कम वजन, सामान्य वजन, अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त है। बीएमआई ऊंचाई की तुलना में शरीर के वजन का एक माप है।

बीपी और कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण- बीपी और कोलेस्ट्रॉल को नियमित व्यायाम, उचित आहार और दवाओं से नियंत्रित किया जाना चाहिए।

तनाव प्रबंधन - तनाव सीधे तौर पर मधुमेह नहीं लाता है, लेकिन यह एक संवेदनशील व्यक्ति में जोखिम को बढ़ाने की क्षमता रखता है। इसलिए अधिक स्वस्थ जीवन के लिए तनाव को हमेशा नियंत्रण में रखना चाहिए।

नियमित निगरानी- रोग को नियंत्रित करने के लिए रक्त शर्करा के स्तर की नियमित निगरानी आवश्यक है।

Post a Comment

Comments should be on the topic and should not be abusive. The editorial team reserves the right to review and moderate the comments posted on the site.



Medindia Newsletters

Subscribe to our Free Newsletters!

Terms & Conditions and Privacy Policy.